चुनाव से पहले वायरल हुआ बंगाली गीत, निर्माताओं ने कहा- विभाजनकारी राजनीति नहीं होने देंगे

Vote
अभिनेता-निर्देशक परमव्रत चटर्जी ने कहा कि हम विभाजनकारी और दमनकारी राजनीति नहीं होने देंगे,जो सभी लोकतांत्रिक नियमों को तार-तार कर देती है। कोई भी राजनीतिक दल दूध का धुला हुआ नहीं है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले साथ आए बंगाली कलाकारों और संगीतकारों ने एक गीत के जरिये फासीवादी शक्तियों को उखाड़ फेंकने की जरूरत पर जोर दिया है। इस वीडियो में एनआरसी-सीएए से लेकर बेरोजगारी तक देश के विभिन्न मुद्दों को रेखांकित किया गया है। साथ ही धर्म के नाम पर खूनखराबे और हिंसा पर भी चोट की गई है। 

इसे भी पढ़ें: बंगाल-असम चुनाव के पहले चरण के लिए प्रचार समाप्त, 458 उम्मीदवारों की किस्मत दांव पर 

अभिनेता-निर्देशक परमव्रत चटर्जी ने कहा कि हम विभाजनकारी और दमनकारी राजनीति नहीं होने देंगे,जो सभी लोकतांत्रिक नियमों को तार-तार कर देती है। कोई भी राजनीतिक दल दूध का धुला हुआ नहीं है। यह समय निरंकुशतावादियों का बहिष्कार करके कम बुरे लोगों को चुनने का है। गीत के बोल, अमी अनयो कोठाओ जबोना, अमी ई देशे तेई थबको हैं। इसका अर्थ है- मैं कहीं और नहीं जाउंगा, इसी देश में रहूंगा। अभिनेता अनिर्बान चटर्जी ने इसे लिखा है। निर्देशन युवा कलाकारों रिद्धि सेन और रवितोब्रोतो मुखर्जी ने किया है। इस वीडियो को मंगलवार रात यू-ट्यूब, फेसबुक और इंस्टाग्राम पर रिलीज किया गया। कुछ ही घंटों में लाखों लोग इसे देख चुके थे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़