अगर रोजगार ही नहीं, तो आरक्षण का क्या मतलब रह जाएगा: राहुल गांधी

 Rahul Gandhi
कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शुक्रवार को नौकरी में आरक्षण को लेकर सरकार के समक्ष सवाल उठाया और पूछा कि जब नौकरी ही नहीं रहेगी तो इसका क्या उपयोग रह जाएगा? कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने नए कृषि कानूनों को लेकर भी सरकार पर हमला किया और इन्हें वापस लेने की मांग की।

नयी दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने शुक्रवार को नौकरी में आरक्षण को लेकर सरकार के समक्ष सवाल उठाया और पूछा कि जब नौकरी ही नहीं रहेगी तो इसका क्या उपयोग रह जाएगा? कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष ने नए कृषि कानूनों को लेकर भी सरकार पर हमला किया और इन्हें वापस लेने की मांग की। राहुल गांधी ने इंडिया ऑन सेल हैशटेग के साथ ट्वीट किया, ‘मित्रि’करण की सूनामी। न रोज़गार है और न आने वाले सालों में होगा तो आरक्षण का क्या मतलब?

इसे भी पढ़ें: उत्तरी दिल्ली नगर निगम सदन में नोवेल्टी सिनेमा जमीन की बिक्री को लेकर हंगामा

केंद्र सरकार द्वारा आने वाले वर्षों में छह लाख करोड़ रुपये जुटाने के लिए राष्ट्रीय मौद्रिकरण नीति का ऐलान किया है जिसको लेकर गांधी ने निशाना साधा है। एक अन्य ट्वीट में कांग्रेस नेता ने कहा, खेत को रेत नहीं होने देंगे, मित्रों को भेंट नहीं देने देंगे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़