भारत अन्वेषण के क्षेत्र में बहुत आगे: राज्यपाल रमेश बैस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 18, 2021   07:47
भारत अन्वेषण के क्षेत्र में बहुत आगे: राज्यपाल रमेश बैस

राज्यपाल रमेश बैस ने आज केन्द्रीय वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) की यहां स्थित प्रयोगशाला केन्द्रीय खनन एवं ईंधन अनुसंधान संस्थान, के अमृत महोत्सव समारोह के अवसर पर लोगों को अपनी मातृसे प्रेम रखने का भी आह्वान किया।

धनबाद| झारखंड के राज्यपाल रमेश बैस ने बुधवार को कहा कि भारत अन्वेषण के क्षेत्र में बहुत आगे है और इस स्थिति को कायम रखने के लिए देश को सतत प्रयास करने होंगे।

राज्यपाल रमेश बैस ने आज केन्द्रीय वैज्ञानिक एवं औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) की यहां स्थित प्रयोगशाला केन्द्रीय खनन एवं ईंधन अनुसंधान संस्थान, के अमृत महोत्सव समारोह के अवसर पर वैज्ञानिकों एवं संस्थान के अधिकारियों को संबोधित करते हुए कहा, ‘‘हमारा देश अन्वेषण के क्षेत्र में बहुत आगे है और इस स्थिति को कायम रखने के लिए सतत प्रयास करने होंगे व निरन्तर खोज व नई-नई तकनीकों पर शोध करते रहना होगा।’’

इसे भी पढ़ें: झारखंड में शिक्षा का स्तर सुधारने में इसाई मिशनरीज का महत्वपूर्ण योगदान : मुख्यमंत्री

राज्यपाल ने कहा, ‘‘हमारे वैज्ञानिकों को अन्वेषण की ओर सतत प्रयासरत रहना होगा।’’

उन्होंने लोगों को अपनी मातृसे प्रेम रखने का भी आह्वान किया। बैस ने कहा कि भारत तकनीक के क्षेत्र में बहुत आगे है। इस देश में वैज्ञानिकों व आविष्कारकों की कमी नहीं है, उन्हें जानने और प्रोत्साहित करने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि कभी हमारे यहां के नालंदा विश्विद्यालय में पढ़ने के लिए विदेशों से भी विद्यार्थी आते थे और आज विदेशों में उच्च शिक्षा की पढ़ाई के लिये हमारे यहां से जाने की होड़ लगी हुई है। राज्यपाल ने सीएसआईआर-केन्द्रीय खनन एवं ईंधन अनुसंधान संस्थान, धनबाद की प्लेटिनम जयंती स्मारिका का लोकार्पण किया।

इसे भी पढ़ें: भटके युवकों की मुख्यधारा में वापसी पर सम्मानित जीवन जीने में मदद करेगी सरकार : सोरेन

समारोह में सांसद पशुपति नाथ सिंह, पद्मभूषण डॉ विजय कुमार सारस्वत, सदस्य, नीति आयोग के अलावा कई वैज्ञानिक व शोधार्थी उपस्थित रहे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...