एयर इंडिया को मिली प्लेन हाइजैक करने की धमकी, सुरक्षा बढ़ाने के आदेश जारी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2019   18:10
एयर इंडिया को मिली प्लेन हाइजैक करने की धमकी, सुरक्षा बढ़ाने के आदेश जारी

नोट में कहा गया है, ‘‘इस सूचना के मद्देनजर एपीएसयू (हवाई अड्डा सुरक्षा इकाई)/एएसजी (विमानन सुरक्षा समूह) और सभी विमान आपरेटर निम्नलिखित (आठ) कदम तत्काल प्रभाव से उठायेंगे।’’

नयी दिल्ली। एयर इंडिया के मुम्बई नियंत्रण केन्द्र को शनिवार को एक फोन आया, जिसमें उसके विमान को हाइजैक करने की धमकी दी गई है। एक आधिकारिक नोट के मुताबिक नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस) ने सभी एयरलाइन्स और सीआईएसएफ को सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए विशेष कदम उठाने के आदेश दिये हैं। ब्यूरो के 23 फरवरी के नोट में कहा गया है, ‘‘ स्टेशन ड्यूटी कार्यालय, एआई (एयर इंडिया) एओसीसी (एयरपोर्ट ऑपरेशन कंट्रोल सेंटर) मुंबई से टेलीफोन पर एक संदेश मिला है, जिसमें उसे 23 फरवरी 2019 को एयर इंडिया के विमान को हाइजैक कर पाकिस्तान ले जाने की धमकी के बारे में सूचना दी गई है।

इसे भी पढ़ें: अश्विनी लोहानी एयर इंडिया के नए अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक बने

नोट में कहा गया है, ‘‘इस सूचना के मद्देनजर एपीएसयू (हवाई अड्डा सुरक्षा इकाई)/एएसजी (विमानन सुरक्षा समूह) और सभी विमान आपरेटर निम्नलिखित (आठ) कदम तत्काल प्रभाव से उठायेंगे।’’ बीसीएएस नोट के अनुसार इन उपायों में टर्मिनल बिल्डिंग, एयरसाइड, सभी परिचालन क्षेत्र और अन्य विमानन सुविधाओं में प्रवेश के दौरान सख्त आगमन नियंत्रण, कार बम हमलों की आशंका को कम करने के लिए कार पार्किंग क्षेत्र में प्रवेश करने वाले वाहनों की गहन जाँच, यात्रियों, कर्मचारियों तथा आगंतुकों की सख्त जांच (जिसमें मुख्य द्वार पर रैंडम स्क्रीनिंग भी शामिल है), मालवाहक, कार्गो, कार्गो टर्मिनल, खानपान, मेल आदि की जांच और सुरक्षा, टर्मिनल बिल्डिंग तथा आपरेशनल क्षेत्रों के आसपास के स्थानों का सीसीटीवी कैमरों से निगरानी आदि शामिल हैं।

इसे भी पढ़ें: एयर इंडिया के भोजन में मिला कॉकरोच, सरकारी एयरलाइन ने मांगी माफी





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।