• मालदीव के विकास के लिए उसके साथ साझेदारी को लेकर भारत प्रतिबद्ध: मोदी

नयी दिल्ली में मोदी ने कहा कि भारत सरकार की ‘पड़ोसी पहले’ और माले की ‘भारत पहले’ नीतियों से दोनों देशों के बीच सभी क्षेत्रों में द्विपक्षीय संबंध प्रगाढ़ हुए हैं। उन्होंने कहा कि आगामी वर्षों में भारत के सहयोग वाली परियोजनाओं से मालदीव के लोगों को काफी फायदा होगा।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को कहा कि एक करीबी मित्र होने के नाते मालदीव के विकास के लिए उसके साथ साझेदारी को लेकर भारत प्रतिबद्ध है। मोदी ने कहा कि दोनों देश हिंद महासागर क्षेत्र में शांति और आपसी सुरक्षा के लिए सहयोग भी बढाएंगे। उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए एक कार्यक्रम में ये बातें कही। यह कार्यक्रम एक साथ नयी दिल्ली और माले में आयोजित हुआ। मालदीव के राष्ट्रपति इब्राहिम सोलिह ने माले में कार्यक्रम में हिस्सा लिया।

नयी दिल्ली में मोदी ने कहा कि भारत सरकार की ‘पड़ोसी पहले’ और माले की ‘भारत पहले’ नीतियों से दोनों देशों के बीच सभी क्षेत्रों में द्विपक्षीय संबंध प्रगाढ़ हुए हैं। उन्होंने कहा कि आगामी वर्षों में भारत के सहयोग वाली परियोजनाओं से मालदीव के लोगों को काफी फायदा होगा। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि एक करीबी मित्र होने के नाते भारत लोकतंत्र और विकास के लिए मालदीव के साथ साझेदारी को लेकर प्रतिबद्ध है। मोदी ने कहा, ‘‘हम हिंद महासागर क्षेत्र में शांति और आपसी सुरक्षा के लिए अपना सहयोग भी बढ़ाएंगे।’’

इसे भी पढ़ें: राहुल ने लोकसभा में अपने लोकसभा क्षेत्र के लंबितल परियोजना का मुद्दा उठाया 

राष्ट्रपति सोलिह ने भारत के साथ सहयोग और भागीदारी प्रगाढ़ करने की अपनी प्रतिबद्धता जतायी। दोनों नेता शांति, समृद्धि और आपसी सुरक्षा तथा बृहद हिंद महासागर क्षेत्र के लिए साथ मिलकर काम करने पर राजी हुए।  भारत ने मालदीव को एक अत्याधुनिक पोत ‘कामयाब’ भी भेंट किया।  मोदी ने कहा, ‘‘इस अत्याधुनिक पोत का निर्माण मेरे गृह राज्य गुजरात में एल एंड टी ने किया है। इससे मालदीव की समुद्री सुरक्षा बढेगी और आपकी समुद्री अर्थव्यवस्था और पर्यटन को बढावा मिलेगा।’’ सोलिह ने कहा कि इस पोत से मालदीव के तटरक्षक की क्षमता में इजाफा होगा।