भारत में वैज्ञानिक क्षमता थी लेकिन नेतृत्व की कमी थी, जो अब नहीं रही : मुख्यमंत्री चौहान

Chouhan
ANI
मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ देश की लड़ाई पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भारत में वैज्ञानिक क्षमता तो थी लेकिन नेतृत्व की कमी थी जो कि अब नहीं है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ देश की लड़ाई पर प्रकाश डालते हुए कहा कि भारत में वैज्ञानिक क्षमता तो थी लेकिन नेतृत्व की कमी थी जो कि अब नहीं है। चौहान ने यहां 8वें भारत अंतरराष्ट्रीय विज्ञान महोत्सव के अपने उद्घाटन भाषण में प्रधानमंत्री मोदी को धन्यवाद देते हुए कहा कि भारत ने न केवल कोविड-19 रोधी टीकों का विकास किया बल्कि महामारी के दौरान 100 से अधिक देशों को उनका निर्यात भी किया।

इसे भी पढ़ें: Pakistan Economic Crisis | पाकिस्तान के लिए विदेशी जहाजरानी कंपनियां बंद कर सकती हैं अपनी सेवाएं

प्रदेश की राजधानी भोपाल में पहली बार हो रहे चार दिवसीय विज्ञान महोत्सव में देश के विभिन्न अंचल से आठ हजार से अधिक प्रतिनिधियों के शामिल होने की उम्मीद है। इस महोत्सव का मुख्य विषय ‘विज्ञान, प्रौद्योगिकी और नवाचार के साथ अमृत काल की ओर अग्रसर’ है। चौहान ने कहा, ‘‘यदि वे टीके नहीं लगे होते तो हम आज यहां चेहरे पर मास्क पहन कर बैठे होते। हमारे पास वैज्ञानिक क्षमता तो थी लेकिन नेतृत्व की कमी थी जो अब नहीं है।’’

इसे भी पढ़ें: karnataka में विपक्ष पर बरसे नड्डा, कहा- वे सिर्फ कुर्सी हथियाने पर तुले हुए हैं और हम विकास के लिए संकल्पित

उन्होंने कहा कि जिज्ञासा विज्ञान की जननी है और जिज्ञासा के बिना हमारा ज्ञान और योग्यता कुछ भी नहीं है। हमारे प्रधानमंत्री की सोच पूरी तरह वैज्ञानिक है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री के नेतृत्व में एक वैभवशाली और शक्तिशाली भारत उभर रहा है। उन्होंने कहा कि देश का स्टार्टअप इकोसिस्टम दुनिया में तीसरा सबसे बड़ा हो गया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़