रिश्ते सुधारने की दिशा में आगे बढ़े भारत-पाक, सीमा पर शांति के लिए बनाई आपसी सहमति

India Pakistan
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दोनों देशों ने युद्धविराम समझौते को सख्ती से लागू करने पर सहमति जताई है। भारत और पाकिस्तान के बीच युद्धविराम 25 नवंबर 2003 की आधी रात को हुआ था। हालांकि, पाकिस्तान लगातार युद्धविराम का उल्लंघन करता आया है।

नयी दिल्ली। भारत और पाकिस्तान के डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशंस (डीजीएमओ) के बीच बुधवार को हॉटलाइन पर बातचीत हुई है। इसमें 2003 के युद्धविराम समझौते को नए सिरे से लागू करने पर सहमति बन गई है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संसद में बताया था कि इस साल 28 जनवरी तक युद्धविराम के उल्लंघन की कुल 299 घटनाएं हुई हैं। जबकि पिछले साल 5133 बार युद्धविराम हुआ था। जिसके चलते नियंत्रण रेखा (एलओसी) के करीब रहने वाले लोगों को अपना घर-बार छोड़ना पड़ता है। हालांकि, इन घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए युद्धविराम समझौते को लागू करने पर सहमति बन गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक दोनों देशों ने युद्धविराम समझौते को सख्ती से लागू करने पर सहमति जताई है। 

इसे भी पढ़ें: भारतीय सेना आंतरिक संचार के लिए SAI ऐप का शुरू कर सकती है उपयोग 

2003 में लागू हुआ था युद्धविराम

भारत और पाकिस्तान के बीच युद्धविराम 25 नवंबर 2003 की आधी रात को हुआ था। हालांकि, पाकिस्तान लगातार युद्धविराम का उल्लंघन करता आया है। बता दें कि आतंकियों को पनाह देने वाला पाकिस्तान अक्सर आतंकवादियों की भारत में घुसपैठ कराने की कोशिश करता आया है और यह किसी से छिपा नहीं है। इसी एवज में वह युद्धविराम का उल्लंघन करता आया है। 

इसे भी पढ़ें: LAC गतिरोध पर बोले सेना प्रमुख, सैनिकों का पीछे हटना दोनों पक्षों के लिए लाभकारी है 

युद्ध विराम के तहत युद्ध को या कहें संघर्ष को अस्थाई तौर पर रोकने का समझौता होता है और फिर समझौते करने वाले देश अक्रामक कार्रवाई नहीं करते हैं और यदि ऐसा होता है तो उसे उल्लंघन माना जाता है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़