उरी से पकड़े गए 18-साल के आतंकी को भारतीय सेना ने पिलाई चाय, यूजर ने पाकिस्तान को ट्रोल करते हुए पूछा- How's the tea?

उरी से पकड़े गए 18-साल के आतंकी को भारतीय सेना ने पिलाई चाय, यूजर ने पाकिस्तान को ट्रोल करते हुए पूछा- How's the tea?

इस वीडियो में किशोर आतंकवादी अपने पाकिस्तानी हैंडलर्स से उसे उसकी माँ के पास वापस भेजने की विनती कर रहा है। किशोरी ने विनती करते हुए कहा कि, जिस तरह से उसे भारत भेजा गया उसी तरह से उसको वापस पाकिस्तान अपनी मां के पास भेज दिया जाए।

जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में 26 सितंबर को एक ऑपरेशन के दौरान भारतीय सेना द्वारा गिरफ्तार किए गए एक 19 वर्षीय पाकिस्तानी आतंकवादी को मीडिया के सामने पेश किया गया, जहां उसने स्वीकारा कि, भारत में हथियारों की आपूर्ति के लिए  पाकिस्तानी हैंडलर्स ने 20,000 रुपये का भुगतान किया था। इस वीडियो में  किशोर आतंकवादी अपने पाकिस्तानी हैंडलर्स से उसे उसकी माँ के पास वापस भेजने की विनती कर रहा है। किशोरी ने विनती करते हुए कहा कि, जिस तरह से उसे भारत भेजा गया उसी तरह से उसको वापस पाकिस्तान अपनी मां के पास भेज दिया जाए। वीडियो में किशोरी दो माइक्रोफोन और एक गिलास चाय के साथ कुर्सी पर बैठे हुआ दिखाई दे रहा है। 

इसे भी पढ़ें: उरी से पकड़े गए बाबर का कबूलनामा, पाकिस्तानी सेना ने दी ट्रेनिंग, ISI ने बड़े आंतकी हमले के लिए भेजा कश्मीर

आतंकवादी के पास रखी चाय की तस्वीर जब सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो ट्विटर पर यूजर ने पाकिस्तान सेना को ट्रोल करना शुरू कर दिया। यूजर तस्वीरों को शेयर करते हुए पाकिस्तानी सेना से पूछ रहे है, How's the tea? यानि की "चाय कैसी है"? गौरतलब है कि, फरवरी 2019  में जब भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्थमान को बालाकोट हवाई हमले के एक दिन बाद पाकिस्तानी अधिकारियों ने पकड़ लिया था, उस समय अभिनंदन को पाकिस्तान सेना द्वारा चाय पिलाई गई थी और पाकिस्तानियों ने ट्रोल कर लिखा था कि, "चाय शानदार है"। 

 

यहां देखिए कुछ ट्विटर रिएक्शन्स:

 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...