उरी से पकड़े गए बाबर का कबूलनामा, पाकिस्तानी सेना ने दी ट्रेनिंग, ISI ने बड़े आंतकी हमले के लिए भेजा कश्मीर

उरी से पकड़े गए बाबर का कबूलनामा, पाकिस्तानी सेना ने दी ट्रेनिंग,  ISI ने बड़े आंतकी हमले के लिए भेजा कश्मीर

सामने आए वीडियो में बाबर ने कबूल किया कि उसे भारत आने के लिए आईएसआई ने रुपयों का लालच दिया और पाकिस्तानी सेना ने ट्रेनिंग दी थी। उसने कहा कि मुझे 20 हजार रुपये एडवांस मिले थे। इसके अलावा मेरे परिवार को 30 हजार रुपये दिए गए थे।

जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर घुसपैठ रोधी अभियान के दौरान लश्कर-ए-तैयबा से संबद्ध 19 वर्षीय पाकिस्तानी आतंकवादी अली बाबर का बड़ा कबूलनामा सामने आये है जिसमें उसने आतंक के आकाओं को एक बार फिर एक्सपोज कर दिया है। उसने कैमरे के सामने कबूल किया है कि वो एक पाकिस्तानी आतंकवादी है। सामने आए वीडियो में आतंकी अली बाबर ने ये बताया कि उसे पाकिस्तान ने कश्मीर में बड़े आंतकी हमले के लिए भेजा। इस वीडियो में आतंंकी ये भी बता रहा है कि उसे पाकिस्तान की सेना ने ट्रेनिंग दी है। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर में बन रही है एशिया की सबसे लंबी सुरंग, क्यों सेना के लिए है अहम?

पाकिस्तानी सेना ने दी ट्रेनिंग 

सामने आए वीडियो में बाबर ने कबूल किया कि उसे भारत आने के लिए आईएसआई ने रुपयों का लालच दिया और पाकिस्तानी सेना ने ट्रेनिंग दी थी। उसने कहा कि मुझे 20 हजार रुपये एडवांस मिले थे। इसके अलावा मेरे परिवार को 30 हजार रुपये दिए गए थे।

उरी में सेना ने पकड़ा था 19 वर्षीय पाकिस्तानी आतंकवादी

बता दें कि बीते दिनों एलओसी पर पर घुसपैठ रोधी अभियान के दौरान 19 वर्षीय पाकिस्तानी आतंकवादी को जिंदा पकड़ लिया गया था। जिसकी पहचान पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के ओकारा जिले के अली बाबर पारा के रूप में की गई। बताया, गया कि उसने कबूल किया है कि वह लश्कर-ए-तैयबा का सदस्य है। अधिकारी ने बताया कि पकड़े गए आतंकवादी ने खुलासा किया है कि उसे 2019 में मुजफ्फराबाद के खैबर शिविर, घडीवाला में तीन सप्ताह तक प्रशिक्षित किया गया था।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।