आईएनएस मकर ने नौका वरप्रदा का पता लगाया, पीड़ितों की तलाश जारी : नौसेना

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 24, 2021   13:53
आईएनएस मकर ने नौका वरप्रदा का पता लगाया, पीड़ितों की तलाश जारी : नौसेना

नौसेना के जहाज आईएनएस मकर ने सोमवार को नौका वरप्रदा का पता लगा लिया। अरब सागर में चक्रवात ताउते के प्रभाव से नौका समुद्र में दूर चली गयी थी। एक अधिकारी ने इस बारे में बताया।

मुंबई। नौसेना के जहाज आईएनएस मकर ने सोमवार को नौका वरप्रदा का पता लगा लिया। अरब सागर में चक्रवात ताउते के प्रभाव से नौका समुद्र में दूर चली गयी थी। एक अधिकारी ने इस बारे में बताया। नौसेना के प्रवक्ता ने बताया, ‘‘गोताखोर नौका में पीड़ितों के फंसे होने की आशंका के मद्देनजर उनकी तलाश कर रहे हैं।’’ अधिकारी ने बताया कि महाराष्ट्र और गुजरात के तटों से 16 और शवों के मिलने के साथ ही समुद्र में हादसे के शिकार हुए बजरा पी305 और खींचने वाली एक नौका के सभी 274 कर्मियों का पता चल गया है।

इसे भी पढ़ें: एलोपैथी पर बाबा रामदेव के बयान पर मचा बवाल तो जताया खेद, जानें क्या है पूरा मामला?

चक्रवात ताउते के प्रभाव से बजरा पी305 समुद्र में डूब गया था और नौका वरप्रदा तट से दूर चली गयी थी। नौसेना के प्रवक्ता ने बताया, ‘‘17 मई को कुल 274 (बजरा पी305 से 261 और नौका वरप्रदा से 13) कर्मियों के लापता होने की सूचना मिली थी। पी305 से 186 और वरप्रदा से दो लोगों को समुद्र से सुरक्षित निकाल लिया गया जबकि भारतीय नौसेना और तटरक्षक के जहाजों ने 70 शवों को समुद्र से बाहर निकाला।’’ उन्होंने बताया, ‘‘महाराष्ट्र के रायगढ़ जिले में तट से आठ शव मिले और अन्य आठ शव गुजरात में वलसाड के निकट तट पर मिले।’’ प्रवक्ता ने बताया कि इस तरह से सभी 274 (बजरा पी305 से 261 कर्मी और नौका वरप्रदा से 13 कर्मी) लोगों का पता चल गया है। उन्होंने कहा कि शवों की पहचान होने के बाद अंतिम पुष्टि की जायेगी।

इसे भी पढ़ें: मनीष सिसोदिया ने की केंद्र से अपील, वैक्सीन निर्माता कंपनी मॉर्डना-फाइजर टीका बनाने की दें मंजूरी

एक अन्य अधिकारी ने बताया कि बचावकर्मियों ने रविवार तक जो 70 शव बरामद किये, समझा जाता है कि वे पी305 के कर्मियों के हैं। तटों पर बहकर आये 16 शवों के मिलने से हादसे में मरने वालों की संख्या बढ़कर 86 हो सकती है। लेकिन अब तक आधिकारिक मृतक संख्या 70 ही है। नौसेना के खोजी पोत आईएनएस मकर ने शनिवार को पी305 के मलबे का पता लगाया था। नौसेना ने खोज एवं बचाव अभियान में तेजी के लिए विशेष गोताखोरों का एक दल (एसएआर) भी नियुक्त किया था।

प्रवक्ता ने पीटीआई-से बातचीत में बताया कि एसएआर टीम को अब तक वापस नहीं बुलाया गया है। एक अन्य अधिकारी ने बताया कि पीड़ितों के रिश्तेदार शवों के साथ मिली चीजों या प्रतीकों जैसे कि कपड़े, पहचान पत्र, कोई चोट का निशान, जन्म का निशान और टैटू की मदद से उनकी शिनाख्त करने का प्रयास कर रहे हैं। अगर शवों की पहचान नहीं हो पाती तो उनकी डीएनए जांच की जायेगी। बजरा गेल कंस्ट्रक्टर और सपोर्ट स्टेशन 3 (एसएस-3) तथा ड्रिल शिप सागर भूषण पर मौजूद सभी 440 लोगों को हाल ही में सफलतापूर्वक सुरक्षित तट पर ले आया गया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।