मनीष सिसोदिया ने की केंद्र से अपील, वैक्सीन निर्माता कंपनी मॉर्डना-फाइजर टीका बनाने की दें मंजूरी

मनीष सिसोदिया ने की केंद्र से अपील, वैक्सीन निर्माता कंपनी मॉर्डना-फाइजर टीका बनाने की दें मंजूरी

दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आज मीडिया में बयान जारी करके कहा कि दिल्ली में 18 से 44 वर्ष के लोगों के लिए सभी 400 टीकाकरण केन्द्र बंद, 45 साल या उससे अधिक आयु के लोगों के लिए ‘कोवैक्सिन’सेंटर भी बंद।

दिल्ली में कोरोना वायरस की वैक्सीन को लेकर लगातार घमासान मचा हुआ है। दिल्ली में बेड, ऑक्सीजन के बाद अब वैक्सीन की किल्लत हो गयी है। युवाओं को वैक्सीनेशन दूर की बाद है 45 साल से उपर के बुजुर्गों का भी वैक्सीनेशन बंद होने की कगार पर है। आधे से ज्यादा केंद्र बंद किए जा चुके हैं। दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आज मीडिया में बयान जारी करके कहा कि दिल्ली में 18 से 44 वर्ष के लोगों के लिए सभी 400 टीकाकरण केन्द्र बंद, 45 साल या उससे अधिक आयु के लोगों के लिए ‘कोवैक्सिन’सेंटर भी बंद। 

 

इसे भी पढ़ें: फ्लेक्स सीड्स या चिया सीड्स, जानिए सेहत के लिए क्या है अधिक बेहतर

 दिल्ली सरकार ने ‘मॉर्डना’, ‘फाइजर’ से बात की, उन्होंने हमें सीधे टीके बेचने ने मना करते हुए कहा कि उनकी केन्द्र से बातचीत हो रही है। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने केन्द्र से टीकाकरण अभियान को मजाक ना बनाने और ‘मॉर्डना’, ‘फाइजर’ के टीकों को तत्काल मंजूरी देने की अपील की।

 

आपको बता दें कि अमेरिका की कोविड-19 टीका निर्माता कंपनी मॉडर्ना ने सीधे पंजाब सरकार को टीका भेजने से इंकार करते हुए कहा है कि उसका केवल केंद्र सरकार के साथ व्यवहार है। यह जानकारी रविवार को राज्य के एक वरिष्ठ अधिकारी ने दी। टीके के लिए पंजाब के नोडल अधिकारी विकास गर्ग ने कहा कि मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह के निर्देश के मुताबिक सभी टीका निर्माताओं से सीधे तौर पर टीका खरीदने के लिए संपर्क किया गया जिनमें स्पूतनिक V, फाइजर, मॉडर्ना और जॉनसन एवं जॉनसन शामिल हैं। उन्होंने कहा कि मॉडर्ना की तरफ से जवाब आया है जिसमें कंपनी ने राज्य सरकार के साथ समझौता करने से इंकार कर दिया है।

 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।