भाजपा का आरोप, असम पुलिस पर हमले के पीछे इस्लामी संगठन PFI का हो सकता है हाथ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 24, 2021   15:06
भाजपा का आरोप, असम पुलिस पर हमले के पीछे इस्लामी संगठन PFI का हो सकता है हाथ

भाजपा ने कहा कि, असम पुलिस पर हमले के पीछे इस्लामी संगठन पीएफआई का हाथ हो सकता है।बृहस्पतिवार को जिले में सिपाझर राजस्व मंडल के अंतर्गत गोरुखुटी और अन्य गांवों में अतिक्रमण रोधी अभियान के दौरान पुलिस और कथित अतिक्रमणकारियों के बीच झड़प में दो लोगों की मौत हो गई, जबकि 20 अन्य घायल हो गए।

गुवाहाटी। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने शुक्रवार को आरोप लगाया कि दरांग जिले में अतिक्रमण हटाने संबंधी अभियान के दौरान असम पुलिस कर्मियों पर हमला करने के लिए प्रदर्शनकारियोंको उकसाने के पीछे इस्लामी संगठन पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) समेत ‘‘तीसरे पक्ष की राजनीतिक और अराजनीतिक ताकतों” का हाथ हो सकता है। बृहस्पतिवार को जिले में सिपाझर राजस्व मंडल के अंतर्गत गोरुखुटी और अन्य गांवों में अतिक्रमण रोधी अभियान के दौरान पुलिस और कथित अतिक्रमणकारियों के बीच झड़प में दो लोगों की मौत हो गई, जबकि 20 अन्य घायल हो गए।

इसे भी पढ़ें: भाजपा का निषाद पार्टी से गठबंधन, धर्मेंद्र प्रधान बोले- सीएम योगी के नेतृत्व में लड़ेंगे यूपी चुनाव

भाजपा के स्थानीय सांसद दिलीप सैकिया ने संवाददाताओं को बताया, “गोरुखुटी में, हमने पीएफआई के कामकाज करने से मिलता-जुलता तरीका देखा है। संगठन का मकसद केवल अशांति फैलाना है।” इस्लामी संगठन पीएफआई को कई राज्यों में प्रतिबंधित कर दिया गया है और केंद्र इसे प्रतिबंधित संगठन घोषित करने की प्रक्रिया में भी जुटा हुआ है। सैकिया ने कहा कि घटना के पीछे अन्य, “राजनीतिक और अराजनीतिक संगठन” भी हो सकते हैं और तथ्य जांच के दौरान धीरे-धीरे सामने आएंगे। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष भबेश कलिता ने दावा किया कि बाहर से लोगों को एकत्र करने और पुलिस पर हमला करने की यह “पहले से रची गई साजिश” है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...