इसरो के जीएसएलवी मार्क 3 ने सफल उड़ान भरी, उप्रगह लेकर हुआ रवाना

isro-s-gslv-mark-3-d2-rocket-carrying-gsat-29
इसरो के अत्यधिक भार वाहक रॉकेट जीएसएलवी मार्क 3 - डी2 रॉकेट को यहां से बुधवार को प्रक्षेपित किया गया। यह भारत के नवीनतम संचार उप्रहग जीसैट - 29 को लेकर अंतरिक्ष के लिए रवाना हुआ।

श्रीहरिकोटा। इसरो के अत्यधिक भार वाहक रॉकेट जीएसएलवी मार्क 3 - डी2 रॉकेट को यहां से बुधवार को प्रक्षेपित किया गया। यह भारत के नवीनतम संचार उप्रहग जीसैट - 29 को लेकर अंतरिक्ष के लिए रवाना हुआ। प्रक्षेपण के लिए 27 घंटों की उलटी गिनती मंगलवार दोपहर शुरू हुई थी और रॉकेट चेन्नई से करीब 100 किमी दूर स्थित श्री हरिकोटा अंतरिक्ष केंद्र से शाम पांच बजकर आठ मिनट पर रवाना हुआ। जीसैट - 29 उपग्रह का वजन 3,423 किग्रा है।

इसमें ‘‘का एवं कु बैंड’’ के ट्रांसपोंडर लगे हुए हैं, जिनका मकसद पूर्वोत्तर और जम्मू कश्मीर सहित उपयोगकर्ताओं की संचार जरूरतों को पूरा करना है। उपग्रह के प्रक्षेपण के आठ मिनट बाद भूस्थैतिक कक्षा में प्रवेश करने का कार्यक्रम है। यह प्रक्षेपण निर्धारित समय पर हुआ है। 

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़