विदेश मंत्री जयशंकर ने कठिन समय में भारत का साथ देने के लिए अमेरिका का आभार जताया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 29, 2021   08:34
विदेश मंत्री जयशंकर ने कठिन समय में भारत का साथ देने के लिए अमेरिका का आभार जताया

विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शुक्रवार को अपने अमेरिकी समकक्ष एंटनी ब्लिंकन से विभिन्न विषयों पर बातचीत की और कोविड-19 से निपटने के दौरान मुश्किल समय में भारत का साथ देने के लिए बाइडन प्रशासन का शुक्रिया अदा किया।

वाशिंगटन। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शुक्रवार को अपने अमेरिकी समकक्ष एंटनी ब्लिंकन से विभिन्न विषयों पर बातचीत की और कोविड-19 से निपटने के दौरान मुश्किल समय में भारत का साथ देने के लिए बाइडन प्रशासन का शुक्रिया अदा किया। अमेरिका के आधिकारिक दौरे पर आए जयशंकर 20 जनवरी को जो बाइडन के अमेरिकी राष्ट्रपति बनने के बाद देश के दौरे पर आने वाले भारत के पहले कैबिनेट मंत्री हैं।

इसे भी पढ़ें: नोएडा को भारत में पहला पूर्ण टीकाकरण वाला जिला बनाने का लक्ष्य : अधिकारी

ब्लिंकन ने कहा कि कोविड-19 के आरंभिक दिनों में भारत ने अमेरिका का साथ दिया जिसे उनका देश हमेशा याद रखेगा। उन्होंने कहा, ‘‘अब हम सुनिश्चित करना चाहते हैं कि हम भारत के लिए और उसके साथ खड़े रहें।’’ जयशंकर ने यहां विदेश विभाग में संवाददाताओं से कहा, ‘‘हमने बहुत सारे मुद्दों पर चर्चा की।

इसे भी पढ़ें: टीका तैयार करने और गुणवत्ता जांच में लगता है समय, इसे रातोंरात नहीं किया जा सकता: सरकार

मुझे लगता है कि दोनों देशों के संबंध पिछले कुछ वर्षों में बहुत मजबूत हुए हैं और मैं आश्वस्त हूं कि आगे भी ऐसा होना जारी रहेगा।’’ जयशंकर ने कहा, ‘‘कठिन समय में साथ देने के लिए प्रशासन और अमेरिका का आभार जताना चाहता हूं।’’ ब्लिंकन ने कहा कि भारत और अमेरिका ‘‘हमारे समय’’ की कई महत्वपूर्ण चुनौतियों पर साथ मिलकर काम कर रहे हैं। उन्होंने कहा, ‘‘हम कोविड-19 से साथ मिलकर लड़ रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।