जेटली का तंज, कहा- राष्ट्रीय सुरक्षा पर कांग्रेस को पढ़ना पड़ रहा है पाठ

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 22, 2019   20:33
जेटली का तंज, कहा- राष्ट्रीय सुरक्षा पर कांग्रेस को पढ़ना पड़ रहा है पाठ

वित्त मंत्री ने अपने ब्लाग में लिखा कि सेवानिवृत सैन्य अधिकारी की नियुक्ति सर्जिकल स्ट्राइक को देर से प्रदान की गई मान्यता एवं स्वीकृति है जिससे हुड्डा जुड़े थे।

नयी दिल्ली। केंद्रीय मंत्री अरुण जेटली ने कांग्रेस पर चुटकी लेते हुए कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि पांच दशक तक शासन करने वाली कांग्रेस को राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर पाठ पढ़ना पड़ रहा है। जेटली का यह बयान ऐसे समय में आया है जब पार्टी ने सर्जिकल स्ट्राइक से जुड़े रहे डी एस हुड्डा को राष्ट्रीय सुरक्षा टास्क फोर्स का कमान सौंपी है। जेटली ने कांग्रेस से कहा कि उसे ऐसा संकेत नहीं देना चाहिए कि आतंकवाद के मुद्दे पर भारत बंटा हुआ है।

लेफ्टिनेंट जनरल हुड्डा के अनुभव का संज्ञान लेते हुए जेटली ने कहा, ‘‘ मेरे मन में कोई संदेह नहीं है कि वह सबसे पुरानी पार्टी (कांग्रेस) को मूल्यवान सुझाव देंगे।’’ वित्त मंत्री ने अपने ब्लाग में लिखा कि सेवानिवृत सैन्य अधिकारी की नियुक्ति सर्जिकल स्ट्राइक को देर से प्रदान की गई मान्यता एवं स्वीकृति है जिससे हुड्डा जुड़े थे।  उन्होंने कहा, ‘‘ मुझे विश्वास है कि सलाहकार पैनल पार्टी नेताओं को इस बारे में बतायेगा कि सर्जिकल स्ट्राइक नियमित कदम नहीं था जो अतीत में उठाये गए बल्कि भारत के लिये पहला महत्वपूर्ण कदम था।’’ 

इसे भी पढ़ें: राफेल पर CAG रिपोर्ट: जेटली बोले- सत्य की जीत, महाझूठबंधन का झूठ बेनकाब

कांग्रेस की ओर से मोदी सरकार पर सर्जिकल स्ट्राइक का राजनीतिकरण करने का आरोप लगाया जाता रहा है। सर्जिकल स्ट्राइक 29 सितंबर 2016 को सेना की ओर से किया गया था जिसमें नियंत्रण रेखा के पार कई आतंकी ठिकानों को निशाना बनाया गया था। जेटली ने कहा कि एक ऐसे दल जिसने आधी शताब्दी तक देश पर शासन किया, उसके संबंध में यह आशश्चर्यजनक है कि राष्ट्रीय सुरक्षा के मुद्दे पर उसे पाठ पढ़ना पड़ रहा है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।