जम्मू में रक्तदान शिविर का आयोजन, 30 से ज्यादा स्वयंसेवकों ने किया नेक काम

जम्मू में रक्तदान शिविर का आयोजन, 30 से ज्यादा स्वयंसेवकों ने किया नेक काम

रक्तदान शिविर का उद्घाटन कॉलेज की प्राचार्य डॉ कुलविंदर कौर ने किया। डॉ कुलविंदर कौर ने इस नेक काम के लिए एनएसएस कार्यक्रम अधिकारी डॉ शुभ्रा जामवाल और रेड रिबन क्लब की संयोजक प्रो राधिका महाजन और उनकी टीम के सदस्यों के प्रयासों की सराहना की।

रक्तदान महादान होता है। यही कारण है कि लोग स्वेच्छा से रक्तदान करते हैं। जम्मू से भी हमारे पास रक्तदान से ही जुड़ी हुई खबर आई। दरअसल, एनएसएस यूनिट और रेड रिबन क्लब ऑफ गवर्नमेंट कॉलेज ऑफ एजुकेशन (जीसीओई) ने जम्मू विश्वविद्यालय रक्त दाताओं और सरकारी मेडिकल कॉलेज तथा अस्पताल जम्मू के सहयोग से आज कॉलेज परिसर में रक्तदान शिविर का आयोजन किया। रक्तदान शिविर का उद्घाटन कॉलेज की प्राचार्य डॉ कुलविंदर कौर ने किया। डॉ कुलविंदर कौर ने इस नेक काम के लिए एनएसएस कार्यक्रम अधिकारी डॉ शुभ्रा जामवाल और रेड रिबन क्लब की संयोजक प्रो राधिका महाजन और उनकी टीम के सदस्यों के प्रयासों की सराहना की। 

इसे भी पढ़ें: जम्मू में 3 से 8 कक्षा के लिए ऑफलाइन क्लास शुरू, शिक्षकों और छात्रों में उत्साह

इस अवसर पर जम्मू नगर निगम की स्वास्थ्य अधिकारी डॉ संजोगीता सूडान मुख्य अतिथि थीं। गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज जम्मू की एक टीम डॉ साल्वे शर्मा, मोनिका कुंडल, सविता देवी, सोनू शर्मा ने प्रक्रिया को सुगम बनाया। इस रक्तदान शिविर में स्टाफ सदस्यों सहित लगभग 30 स्वयंसेवकों ने ऐसे नेक काम के लिए रक्तदान किया। इस अवसर पर बोलते हुए, प्राचार्य ने कहा कि जनसंख्या में वृद्धि और अधिक उन्नत चिकित्सा और शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं के विकास के साथ, रक्त की आवश्यकता लगातार बढ़ रही है।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर में भारी बर्फबारी से श्रीनगर हवाईअड्डे पर उड़ानों का संचालन प्रभावित

अपने संबोधन में प्राचार्य ने आगे कहा कि केवल स्वैच्छिक रक्त दाता ही जरूरतमंद लोगों के जीवन को बचाने के लिए रक्त की पर्याप्त आपूर्ति बनाए रखने में मदद कर सकते हैं। वे सुरक्षित रक्त के स्रोत भी हैं। कुछ छात्र पहली बार दान देने वाले थे और उन्होंने अपने दोस्तों को भविष्य में इस नेक कार्य में भाग लेने के लिए प्रेरिर तरने का संकल्प लिया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।