ताजा हिमपात और भूस्खलन के कारण जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग बंद

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2022   11:40
ताजा हिमपात और भूस्खलन के कारण जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग बंद

अधिकारियों ने यह जानकारी दी। जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग कश्मीर घाटी को देश के अन्य हिस्सों से जोड़ने वाली एकमात्र सड़क है, जो हर मौसम में यातायात के लिए खुली रहती है।

बनिहाल/जम्मू। जम्मू-कश्मीर में शनिवार को ताजा हिमपात और विभिन्न स्थानों पर हुए भूस्खलन के कारण 270 किलोमीटर लंबे जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद करना पड़ा। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग कश्मीर घाटी को देश के अन्य हिस्सों से जोड़ने वाली एकमात्र सड़क है, जो हर मौसम में यातायात के लिए खुली रहती है। अधिकारियों के मुताबिक, राजमार्ग के बनिहाल-काजीगुंड सेक्टर में रात भर हिमपात हुआ जबकि रामबन जिले के रोमपड़ी-बनिहाल, शालगढ़-वागन, मौमपासी-रामसू, पंथियाल, डिगडोले, मरूग, मंकी मोड़, कैफेटेरिया मोड़ और महर में भारी बारिश से भूस्खलन और पहाड़ियों से पत्थरों के टूटकर गिरने की घटनाएं हुईं।

इसे भी पढ़ें: भोपाल में तेज रफ्तार कार ने चार महिला आरक्षकों को टक्कर मारी, तीन की हालत गंभीर

उन्होंने कहा कि बारामूला का एक ट्रक चालक वसीम अहमद डार उस समय घायल हो गया जब उसका ट्रक मेहर इलाके में सुबह करीब साढ़े चार बजे एक बड़े विशाल पत्थर से टकरा गया। अधिकारियों ने कहा कि डार जम्मू से कश्मीर जा रहा था। हादसे के बाद पुलिस और नागरिक स्वयंसेवकों की एक संयुक्त टीम ने उसे बचाया। उसकी हालत अब स्थिर बताई जा रही है।

इसे भी पढ़ें: भारतीय वायु सेना ने ब्रिटेन में बहुपक्षीय अभ्यास में विमान न भेजने का फैसला किया

अधिकारियों ने कहा कि जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग बंद होने से दर्जनों ट्रक अलग-अलग जगहों पर फंसे हुए हैं। मौसम में सुधार के साथ सड़कों के रख-रखाव से संबंधित एजेंसियों को राजमार्ग से मलबा हटाने के लिए कर्मियों और मशीनरी को तैनात करने को कहा गया है। जम्मू क्षेत्र के किश्तवाड़, रियासी, डोडा, पुंछ, राजौरी और कठुआ जिले के ऊंचाई वाले इलाकों में भी हिमपात हुआ है। इन इलाकों में कुछ इंच से लेकर एक फुट से अधिक तक हिमपात होने की सूचना मिली है। माता वैष्णों देवी के मंदिर परिसर में भी हिमपात हुआ है। हालांकि, तीर्थयात्रा सुचारू रूप से जारी है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...