राष्ट्रीय लोकदल अध्यक्ष जयंत चौधरी ने विधानसभा चुनाव के नतीजों के अध्ययन समिति का किया गठन

राष्ट्रीय लोकदल अध्यक्ष जयंत चौधरी ने विधानसभा चुनाव के नतीजों के अध्ययन समिति का किया गठन

राष्ट्रीय लोकदल अध्यक्ष चौधरी जयन्त सिंह ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजों के अध्ययन एवं संगठन को सुव्यवस्थित बनाने के लिए समीक्षा समिति का गठन किया है।

मेरठ, राष्ट्रीय लोकदल अध्यक्ष चौधरी जयन्त सिंह ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के नतीजों के अध्ययन एवं संगठन को सुव्यवस्थित बनाने के लिए समीक्षा समिति का गठन किया है।राष्ट्रीय लोकदल प्रवत्ता सुरेन्द्र शर्मा ने मंगलवार शाम मेरठ में प्रभासाक्षी को यह जानकारी देते हुए बताया कि यह समिति 15 अप्रैल तक उत्तर प्रदेश के जिलों में भ्रमण कर अपना प्रतिवेदन सौंपेगी।

रालोद प्रवक्ता सुरेन्द्र शर्मा के मुताबिक संगठन सुधार के लिए चौधरी जयन्त सिंह ने कार्यकारिणी के तीन सदस्यों की समिति गठित करने का प्रस्ताव दिया। यह समिति पार्टी,चुनाव समीक्षा प्रतिवेदन के आधार पर पार्टी के मूल ढांचे में परिवर्तन करने का रोडमैप तैयार करेगी। बाबा हरदेव,केपी चौधरी और चौधरी प्रवीण सिंह को संगठन सुधार समिति के लिए नामित किया गया है। प्रवक्ता ने बताया कि मंगलवार को दिल्ली में चौधरी जयन्त सिंह की अध्यक्षता में पार्टी की राष्ट्रीय कारिणी की बैठक भी हुई। बैठक में उन्होंने देश में बढ़ रहे आर्थिक संकट पर चिंता जताते हुए कहा कि रोजाना डीजल,पेट्रोल और रसोई गैस के दामों में हो रही बढ़ोतरी से गरीब और मध्यम वर्ग पर आर्थिक बोझ बढ़ रहा है।

प्रवक्ता के अनुसार राष्ट्रीय लोकदल की राष्ट्रीय कार्यकारिणी ने आंदोलनरत किसानों से किये वादे के अनुसार न्यूनतम समर्तन मूल्य गारंटी कानून को लागू करने की मांग की है। बैठक में पार्टी पदाधिकारियों ने आगामी नगर निकाय चुनाव व राजस्थान विधानसभा चुनावों को मजबूती से लड़ने की बात कही। इसके अलावा बैठक में मौजूद विधायकों व पूर्व विधायकों के भी संगठन के साथ मिलकर काम करने पर बल दिया गया। पार्टी सदस्यता अभियान एवं संगठन की चर्चा को आगे बढ़ाने के लिए अगली राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक 24 अप्रैल को बुलाई गई है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।