झारखंड: न्यायाधीश की मौत के विरोध में वकीलों ने किया कार्य बहिष्कार, जताया गुस्सा

Jharkhand Lawyers Abstain From Work To Protest Judge And Advocates Death
झारखंड में न्यायाधीश की मौत के विरोध में वकीलों ने कार्य का बहिष्कार किया।वकीलों ने पूर्व में एक वकील की हत्या को लेकर भी अपना गुस्सा जताया। राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति पर चिंता जताते हुए 30,000 से अधिक वकीलों ने राज्य में अधिवक्ता संरक्षण अधिनियम लागू करने की मांग की।

रांची/धनबाद। झारखंड के धनबाद में न्यायाधीश उत्तम आनंद की एक वाहन से कथित तौर पर कुचलने से मौत के मामले में गिरफ्तार दो आरोपियों को पांच दिन की हिरासत में भेजे जाने के बीच शुक्रवार को वकीलों ने इस घटना के विरोध में राज्यभर में कार्य बहिष्कार किया। वकीलों ने पूर्व में एक वकील की हत्या को लेकर भी अपना गुस्सा जताया। राज्य में कानून-व्यवस्था की स्थिति पर चिंता जताते हुए 30,000 से अधिक वकीलों ने राज्य में अधिवक्ता संरक्षण अधिनियम लागू करने की मांग की।

इसे भी पढ़ें: जम्मू-कश्मीर के राजौरी में IED को किया गया डिफ्यूज, आतंकवादियों की तलाश जारी

वहीं, उच्चतम न्यायालय ने धनबाद में एक न्यायाधीश की 28 जुलाई की सुबह में एक वाहन से कथित तौर पर कुचलने की ‘‘वीभत्स घटना में दुखद मौत’’ पर शुक्रवार को स्वत: संज्ञान लिया और मामले की जांच की प्रगति के बारे में झारखंड के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक से एक हफ्ते के भीतर स्थिति रिपोर्ट मांगी। इस बीच, झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने शुक्रवार को कहा कि राज्य सरकार धनबाद के न्यायाधीश उत्तम आंनद की मौत के मामले की जांच को लेकर गंभीर है और उनके परिवार को न्याय दिलाया जाएगा। न्यायाधीश के परिवार के सदस्यों ने सोरेन से मुलाकात की थी।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़