भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बुधवार को संवाद करेंगे जेपी नड्डा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 28, 2020   16:36
भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बुधवार को संवाद करेंगे जेपी नड्डा

नड्डा अब तक दर्जन भर से अधिक राज्यों में ऐसी रैलियों को संबोधित कर चुके हैं। इस बीच, झारखंड के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए नड्डा ने कहा कि फरवरी-मार्च में जब कोविड-19 आया तब अमेरिका, स्पेन, इटली और यूरोप के देशों में स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गईं और वहां के नेता खुद को असहाय महसूस कर रहे थे।

नयी दिल्ली। भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा बुधवार को भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से संवाद करेंगे। झारखंड के आठ जिलों में नवनिर्मित कार्यालयों का वीडियो कॉन्फ्रेंस से उद्घाटन करने के बाद प्रदेश के नेताओं और कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए नड्डा ने मंगलवार को यह जानकारी दी। कोरोना वायरस महामारी की पृष्ठभूमि में केंद्र सरकार की ओर से उठाए गए कदमों और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किये गए ‘‘आत्मनिर्भर भारत’’ अभियान का विस्तृत ब्योरा देते हुए नड्डा ने कहा, ‘‘कल मैं सभी भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों से वीडियो कॉन्फ्रेंस से बात करने वाला हूं।’’ हालांकि, उन्होंने यह नहीं बताया कि इस संवाद के मुद्दे क्या होंगे लेकिन भाजपा सूत्रों का कहना है कि पार्टी अध्यक्ष इस दौरान दल शासित राज्यों में कोविड-19 संकट से उत्पन्न वर्तमान स्थिति का जायजा लेंगे और साथ ही ‘‘आत्मनिर्भर भारत’’ अभियान सहित अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के संबंध में केंद्र की ओर से की गई विभिन्न घोषणाओं पर चर्चा करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना के खिलाफ जंग को लेकर नड्डा ने की PM मोदी की प्रशंसा, कहा- लोगों की मदद के लिए मजबूत फैसले लिए गए

ज्ञात हो कि केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूरा होने पर भाजपा अपनी उपलब्धियां गिनाने के लिए लगातार डिजिटल रैलियों का आयोजन कर रही है। नड्डा अब तक दर्जन भर से अधिक राज्यों में ऐसी रैलियों को संबोधित कर चुके हैं। इस बीच, झारखंड के कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए नड्डा ने कहा कि फरवरी-मार्च में जब कोविड-19 आया तब अमेरिका, स्पेन, इटली और यूरोप के देशों में स्वास्थ्य सेवाएं चरमरा गईं और वहां के नेता खुद को असहाय महसूस कर रहे थे। उन्होंने कहा, ‘‘उसका कारण ये था कि वहां के नेता अर्थव्यवस्था और मानवता के बीच में चुन नहीं पा रहे थे कि किसको प्राथमिकता दी जाए। हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, जो देश को फ्रंट से लीड कर रहे थे, उनकी दृष्टि देखिए। उन्होंने कहा कि ‘जान है तो जहान है’। उचित समय पर उचित निर्णय लेकर जन सहभागिता के माध्यम से 130 करोड़ भारतवासियों को सही दिशा में ले जाने का काम उन्होंने किया।’’ कोरोना वायरस संक्रमण के बीच सरकार द्वारा देश भर में खड़ा किए गए स्वास्थ्य संबंधी अवसंरचनाओं का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि इस बीमारी से ठीक होने की दर भारत में आज 63 फीसदी है। उन्होंने कहा, ‘‘कई भाजपा शासित राज्य ऐसे हैं जहां ठीक होने की दर राष्ट्रीय औसत से भी बेहतर है।’’ 

इसे भी पढ़ें: हेमंत सरकार पर बरसे जेपी नड्डा, बोले- अराजकता का दूसरा नाम बन गया है झारखंड

उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस महामारी के शुरुआती दिनों में जहां देश में एक भी पीपीई किट नहीं बनता था, आज साढ़े चार लाख पीपीई किट प्रतिदिन बन रहे हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने न सिर्फ अर्थव्यवस्था पर ध्यान दिया बल्कि इस दौरान प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना और अन्य योजनाओं के माध्यम से समाज के गरीब तबकों का भी खयाल रखा। आत्मनिर्भर पैकेज का जिक्र करते हुए नड्डा ने नेताओं से अपील की कि वे कार्यकर्ताओं को प्रशिक्षत करें ताकि वे आत्मनिर्भर भारत की बारीकियों को समझें और जिसे सुविधा मिलनी है, उन तक पहुंचाने में सफल कोशिश करें। उन्होंने कहा कि रेहड़ी पटरी वालों के लिए लगभग 5000 करोड़ रुपये आवंटित करने का जो काम केंद्र सरकार ने किया है, उसमें कार्यकर्ताओं को भी अपनी भागीदारी सुनिश्चित करनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘मैं चाहता हूं कि हमारे लोग जल्द से जल्द ठेले, रेहड़ी पटरी वालों का रजिस्ट्रेशन करवाएं। उनको पैसे दिलाएं ताकि उनका दैनिक खर्च ठीक से चले। हमें इसका लाभ उठाना चाहिए।’’ नड्डा ने कहा कि आने वाले दो सालों के अंदर सभी जिलों में भाजपा के कार्यालय निर्माण का काम वह सुनिश्चित करने का प्रयास करेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।