झारखंड में जज की हत्या ! देश के न्यायाधीशों ने सुरक्षा के प्रति जताई चिंता

झारखंड में जज की हत्या ! देश के न्यायाधीशों ने सुरक्षा के प्रति जताई चिंता
प्रतिरूप फोटो

CJI ने झारखंड HC के मुख्य न्यायाधीश से बात की और राज्य पुलिस को नोटिस जारी किया गया है। पुलिस ने हत्या की धारा के तहत प्राथमिकी दर्ज की क्योंकि मृतक के परिवार ने माफिया की संलिप्तता के संदेह में सीबीआई जांच की मांग की।

झारखंड के धनबाद में बुधवार को सुबह की सैर पर निकले जिला एवं सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की एक वाहन की टक्कर से मौत हो गई। कुछ हाई प्रोफाइल मामलों की सुनवाई कर रहे धनबाद के अतिरिक्त जिला और सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की मौत में मामले में एक वीडियो सामने आया है जिसमें यह साफ तौर पर देखा गया है जज को पिछे से एक वाहन (ऑटो रिक्शा) ने टक्कर मारी है। वीडियो सामने आने के बाद अब मौत का कारण हादसा नहीं बल्कि सोच-समझकर की गयी हत्या माना जा रहा है। 

धनबाद के जज की मौत पर सस्पेंस

CJI ने झारखंड HC के मुख्य न्यायाधीश से बात की और राज्य पुलिस को नोटिस जारी किया गया है। पुलिस ने हत्या की धारा के तहत प्राथमिकी दर्ज की क्योंकि मृतक के परिवार ने माफिया की संलिप्तता के संदेह में सीबीआई जांच की मांग की। इस मामले को लेकर एसआईटी का भी गठन किया गया है और पुलिस ने जांच के लिए कई टीमों का गठन किया है। धनबाद के जिला न्यायाधीश उत्तम आनंद की "संदिग्ध" मौत के बाद, देश भर में न्यायपालिका और बार को हिलाकर रख दिया गया है। सीजेआई रमना ने गुरुवार को एक चिंतित बार को आश्वस्त करते हुए कहा कि उन्होंने गुरुवार सुबह झारखंड के मुख्य न्यायाधीश से बात की और उच्च न्यायालय द्वारा उठाए जा रहे कदमों से अवगत करा दिया गया है। 

इसे भी पढ़ें: बढ़ते तनाव के बीच अमेरिका पहुंचे चीन के नए राजदूत छिन गांग, क्या संबंध सुधरेंगे?  

सैर पर निकले न्यायाधीश उत्तम आनंद को ऑटो ने जानबूझकर मारी टक्कर?

धनबाद के जिला न्यायाधीश उत्तम आनंद की बुधवार को सुबह की सैर के दौरान तेज रफ्तार टेंपो की चपेट में आने से मौत हो गई. घंटों बाद, सीसीटीवी फुटेज की जांच से लग रहा था कि यह कोई दुर्घटना नहीं बल्कि जानबूझकर की गई हत्या है। पुलिस अधीक्षक संजीव कुमार ने बताया कि आज सुबह लगभग पांच बजे जिला एवं सत्र न्यायाधीश (अष्टम) उत्तम आनंद सुबह की सैर पर निकले थे और रास्ते में उन्हें एक ऑटो रिक्शा ने पीछे से टक्कर मार दी जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गयी। उन्होंने बताया कि क्षेत्र में लगे सीसीटीवी की फुटेज से घटना की पुष्टि हुई लेकिन अब तक इस घटना में शामिल ऑटो को पकड़ा नहीं जा सका है। अधिकारी ने बताया कि वहां से गुजर रहे दूसरे ऑटो चालक ने रास्ते में खून से लथपथ पड़े न्यायाधीश को अस्पताल पहुंचाया जहां चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। उन्होंने कहा कि दुखद पहलू यह है कि न्यायाधीश को अस्पताल ले जाए जाने पर भी किसी ने नहीं पहचाना। परिजनों ने जब उनके घर न लौटने की सूचना पुलिस को दी तो उनकी तलाश शुरू हुई। 

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस का सरकार पर हमला, कहा- पेगासस मुद्दे पर चर्चा कराने में किस बात का डर  

धनबाद जज की मौत मामले पर जांच

इसी बीच, पुलिस को अस्पताल में अज्ञात शव लाए जाने की सूचना मिली। इसकी पहचान न्यायाधीश उत्तम आनंद के शव के रूप में हुई। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि न्यायाधीश हजारीबाग के रहनेवाले थे। उनके पिता व भाई हजारीबाग अदालत में अधिवक्ता हैं जबकि उनके दो साले आईएएस अधिकारी हैं। उन्होंने कहा कि प्रारंभिक जांच में न्यायाधीश की मौत का कारण सड़क दुर्घटना को माना जा रहा है, लेकिन इस पहलू से भी जांच की जा रही है कि कहीं न्यायाधीश को जानबूझकर तो किसी ने ऑटो से टक्कर नहीं मारी। पुलिस मामले की जांच कर रही है, रिपोर्टों में कहा गया है कि जज की मौत से कुछ घंटे पहले टेंपो चोरी हो गया था।

सुप्रीम कोर्ट पहुंचा जज की मौत का मामला

इस बीच, मामला सुप्रीम कोर्ट तक भी पहुंच गया है, क्योंकि एससी बार एसोसिएशन के अध्यक्ष विकास सिंह ने इस मुद्दे पर पहले न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ के समक्ष और फिर सीजेआई के समक्ष तत्काल सुनवाई की आवश्यकता का उल्लेख किया। सिंह ने इस घटना पर स्वत: संज्ञान लेने के लिए उच्चतम न्यायालय पर दबाव डाला। सिंह ने तर्क दिया, "सीसीटीवी फुटेज से संकेत मिलता है कि यह कोई दुर्घटना नहीं थी। यह एक पूर्व नियोजित हमला था," उन्होंने यह भी बताया कि मीडिया रिपोर्टों से संकेत मिलता है कि एक व्यक्ति "पूर्व ज्ञान के साथ घटना को फिल्मा रहा था"।

जज ने की थी गैंगस्टर की जमानत खारिज

न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ ने गुरुवार को सुनवाई के लिए अदालत के खुलने पर सिंह से कहा, यह न्यायपालिका की स्वतंत्रता पर हमला है, एससीबीए अदालत से संज्ञान लेने का अनुरोध कर रहा है। हालांकि, न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने सिंह को प्रोटोकॉल के अनुसार अनुरोध के साथ सीजेआई से संपर्क करने के लिए कहा। कुछ मिनट बाद एससीबीए अध्यक्ष वीडियो कॉन्फ्रेंस पर सीजेआई की अगुवाई वाली पीठ के सामने पेश हुए और बताया कि स्थिति "सीबीआई जांच" की आवश्यकता है। सिंह ने कहा, "अगर किसी गैंगस्टर की जमानत खारिज करने के बाद इस तरह किसी की हत्या की जाती है, तो यह न्यायपालिका के लिए खतरनाक स्थिति है। इसकी सीबीआई जांच होनी चाहिए।"

CJI एनवी रमना ने हालांकि कहा कि उन्होंने स्थिति का जायजा लेने के लिए आज सुबह झारखंड के मुख्य न्यायाधीश से बात की थी। उच्च न्यायालय ने पुलिस और जिला अधिकारियों को नोटिस जारी किया है। वे आज इस मामले की सुनवाई कर रहे हैं। उन्हें इसे संभालने दें। इसे इस स्तर पर हमारे द्वारा हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं है। मैंने आज सुबह मुख्य न्यायाधीश से बात की है सीजेआई रमना चिंतित बार का आश्वासन दिया। झारखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश ने बुधवार शाम को घटना का संज्ञान लिया था, और वरिष्ठ पुलिस और जिला अधिकारियों को गुरुवार सुबह अदालत में उपस्थित रहने के लिए एक रिपोर्ट देने के लिए कहा था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।