कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने दिया इस्तीफा, कहा- मैं हमेशा अग्नि परीक्षा से गुजरा हूं

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने दिया इस्तीफा, कहा- मैं हमेशा अग्नि परीक्षा से गुजरा हूं

बड़ी खबर सीधे इस वक्त कर्नाटक से आ रही है जहां मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने इस्तीफा दे दिया है। हालांकि पिछले कई दिनों से येदियुरप्पा के इस्तीफे की कयास थी। कर्नाटक के सबसे प्रभावशाली लिंगायत नेता और राज्य में दो दशक से भाजपा का चेहरा रहे 78 वर्षीय येदियुरप्पा ने रविवार शाम को कहा कि उन्हें अब तक केंद्रीय नेतृत्व से ‘संदेश ’ नहीं मिला है कि इस पद पर बने रहना है या हटना है।

बड़ी खबर सीधे इस वक्त कर्नाटक से आ रही है जहां मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने इस्तीफा दे दिया है। हालांकि पिछले कई दिनों से येदियुरप्पा के इस्तीफे की कयास थी। येदियुरप्पा ने 75 साल से अधिक आयु होने के बावजूद उन्हें दो साल मुख्यमंत्री के रूप में सेवा करने का अवसर देने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष जे पी नड्डा का धन्यवाद किया। भाजपा में 75 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को निर्वाचित कार्यालयों से बाहर रखने का अलिखित नियम है। मुख्यमंत्री ने कहा कि वह केंद्रीय नेताओं की उम्मीदों के मुताबिक पार्टी को मजबूत करने के लिए काम करेंगे। 

इसे भी पढ़ें: येदियुरप्पा के बाद कौन होगा कर्नाटक का नया मुख्यमंत्री, इन नामों पर हो रही चर्चा

कर्नाटक के सबसे प्रभावशाली लिंगायत नेता और राज्य में दो दशक से भाजपा का चेहरा रहे 78 वर्षीय येदियुरप्पा ने रविवार शाम को कहा था कि उन्हें अब तक केंद्रीय नेतृत्व से ‘संदेश ’ नहीं मिला है कि इस पद पर बने रहना है या हटना है। येदियुरप्पा ने भावुक होते हुए कहा कि दोपहर के भोज के बाद राज्यपाल को इस्तीफा सौपेंगे। उन्होंने कहा, मुझे पार्टी में ज्यादातर पद मिले जो कर्नाटक में किसी और को नहीं मिले। इसके लिये मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा का आभार व्यक्त करता हूं। लिंगायत नेता येदियुरप्पा ने कहा कि उनका एकमात्र लक्ष्य अगले दो वर्षों तक कड़ी मेहनत करना और कर्नाटक में भाजपा को सत्ता में वापस लाना है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।