एक शादी ऐसी भी! मौत के 30 साल बाद बंधन में बंधे दूल्हा-दुल्हन, बारात से लेकर सात फेरे की निभाई गई रस्में

shadi
Common creative
निधि अविनाश । Jul 31, 2022 5:09PM
गुरूवार को कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले में एक मृत जोड़े की पारंपरिक तरीके से शादी कराई गई। जोड़े की मौत 30 साल पहले ही हो चुकी है। मौत के 30 साल बाद शोभा और चंदप्पा की दोबारा से शादी कराई गई।

हमारे देश भारत को इसलिए ही कहा जाता है अतुल्य भारत! कर्नाटक से एक बड़ी ही अनोखी खबरा सामने आ रही है जिसकी अद्भुत परंपरा जानकर आप भी काफी हैरान हो जाएंगे। कर्नाटक राज्य के इस परंपरा के मुताबिक, यहां मृत दूल्हा-दुल्हन की शादी कराई जाती है जिसका वीडियो हम आपके सामने शेयर करने जा रहे है। गुरूवार को कर्नाटक के दक्षिण कन्नड़ जिले में एक मृत जोड़े की पारंपरिक तरीके से शादी कराई गई। जोड़े की मौत 30 साल पहले ही हो चुकी है। मौत के 30 साल बाद शोभा और चंदप्पा की दोबारा से शादी कराई गई।

इसे भी पढ़ें: Youtube वीडियो देखकर 12 साल के नाबालिग ने घर पर बनाई शराब, दोस्त को पिलाई, मरते मरते बचा

'प्रेथा कल्याणम' की अनूठी परंपरा
कर्नाटक और केरल के कुछ हिस्सों में प्रेथा कल्याणम यानि की मौत के बाद शादी की रस्में निभाई जाती है। इसमें जन्म के बाद मृत बच्चों के लिए अनुष्ठान किया जाता है जिसका मकसद केवल मृत आत्माओं को शांति प्रदान कराना है। बता दें कि इस अजीबोगरीब परंपरा की जानकारी और वीडियो यूट्यूबर एनी अरुण ने ट्वीट करके दी। उन्होंने बताया कि वह इस अनोखी शादी में शामिल भी हुए थे। शादी में दूल्हा और दुल्हन की मौत 30 साल पहले ही हो चुकी है। एनी ने बताया कि यह शादी भी आम शादी की तरह ही परंपरागत होती है।

इसमें बस अंतर यह था कि इसमें दूल्हा-दुल्हन की जगह उनके पुतलों की शादी होती है।यह विवाह की रस्में है जो मृत बच्चों की दंपती की तरह अनौपचारिक जोड़ी बनाई जाती है। इसका मतलब है कि मृत बालक की शादी मृत बच्ची से उनके पुतलों के जरिए कराई जा रही है। इसमें शादी रीति रिवाज के साथ होती है और बारात से लेकर सात फेरे तक की रस्में होती हैं। इसके अलावा शादी में शामिल सभी मेहमानों को दावत दी जाती है। इस शादी में खास मिठाई परोसे जाते है। दिवंगत आत्मा के विवाह संस्कार की रस्म पूरी करना इसका पूरा मकसद होता है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़