राष्ट्रीय कोच कुलदीप हांडू से प्रशिक्षण हासिल कर रहे हैं कश्मीर के वुशु प्लेयर्स

Kuldeep Handoo
Prabhasakshi
देखा जाये तो बदलते समय के साथ घाटी के युवा मुख्यधारा से जुड़ रहे हैं और अपना भविष्य शिक्षा अथवा खेल जगत में सँवारने के लिए मेहनत कर रहे हैं। खेलों की तरफ कश्मीरी युवाओं का बढ़ा हुआ आकर्षण निश्चित ही भविष्य में भारत की झोली पदकों से भर देगा।

कश्मीर में इस समय कई कोच खेल प्रतिभाओं को सामने लाने का काम कर रहे हैं। इसी कड़ी में जम्मू-कश्मीर के पहले द्रोणाचार्य पुरस्कार से सम्मानित कुलदीप हांडू का नाम लिया जा सकता है जोकि आजकल वुशु खिलाड़ियों को प्रशिक्षण दे रहे हैं। ग्यारह बार के राष्ट्रीय वुशु चैंपियन कुलदीप हांडू ने अंतरराष्ट्रीय खेल आयोजनों में भारत के लिए पदक भी जीते हैं और वर्तमान में वह भारत की वुशु टीम के राष्ट्रीय कोच भी हैं। कुलदीप हांडू से प्रशिक्षण प्राप्त करके कई खिलाड़ियों ने वुशु में शानदार प्रदर्शन करते हुए विश्व वुशु चैम्पियनशिप में तीन स्वर्ण पदक जीते हैं। इस समय कुलदीप हांडू गुजरात में होने वाले खेलों के लिए खिलाड़ियों को प्रशिक्षण प्रदान कर रहे हैं। प्रभासाक्षी से बातचीत में कुलदीप ने कहा कि कश्मीर के युवाओं में काफी प्रतिभा है और हम उसे निखारने और प्रोत्साहित करने का काम कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: कश्मीर जा रहे हैं तो अब साइकिल किराये पर लेकर भी जहाँ मन चाहे वहाँ घूमने जा सकते हैं

वाकई, देखा जाये तो बदलते समय के साथ घाटी के युवा मुख्यधारा से जुड़ रहे हैं और अपना भविष्य शिक्षा अथवा खेल जगत में सँवारने के लिए मेहनत कर रहे हैं। खेलों की तरफ कश्मीरी युवाओं का बढ़ा हुआ आकर्षण निश्चित ही भविष्य में भारत की झोली पदकों से भर देगा। जरूरत है इन युवा खिलाड़ियों को सही मार्गदर्शन प्रदान करने की और इस काम को कुलदीप हांडू जैसे लोग बखूबी अंजाम दे रहे हैं। हम आपको यह भी बता दें कि कुलदीप हांडू वर्तमान में भारतीय वुशु खिलाड़ी सादिया तारिक को कोचिंग दे रहे हैं जिन्होंने इस साल मास्को में आयोजित एक जूनियर टूर्नामेंट में स्वर्ण पदक जीता था। प्रभासाक्षी से बातचीत में सादिया ने कहा कि वह भाग्यशाली हैं कि उन्हें कुलदीप जैसे कोच से प्रशिक्षण मिल रहा है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़