पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने के मुद्दे पर खोखली बात कर रहे हैं केजरीवाल: शीला दीक्षित

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 25, 2019   08:18
पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने के मुद्दे पर खोखली बात कर रहे हैं केजरीवाल: शीला दीक्षित

कांग्रेस नेता शीला दीक्षित ने कहा कि केजरीवाल दिल्ली के लिए पूर्ण राज्य के दर्जे के बारे में खोखली बातचीत कर रहे हैं और उनके वाक्चातुर्य से कुछ भी सामने आने वाला नहीं है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस नेता शीला दीक्षित ने रविवार को आरोप लगाया कि आगामी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने के मुद्दे पर ‘खोखली बातें’ कर रहे हैं। मुख्यमंत्री केजरीवाल ने दिल्ली के लिए पूर्ण राज्य की मांग को लेकर एक मार्च से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करने की घोषणा की है। दिल्ली कांग्रेस की अध्यक्ष शीला दीक्षित ने कहा, ‘केजरीवाल दिल्ली के लिए पूर्ण राज्य के दर्जे के बारे में खोखली बातचीत कर रहे हैं और उनके वाक्चातुर्य से कुछ भी सामने आने वाला नहीं है। अगर वह दिल्ली के लिए पूर्ण राज्य के दर्जे के बारे में गंभीर थे तो उन्हें चार साल पहले मुद्दा उठाना चाहिए था। वह आगामी लोकसभा चुनाव को देखते हुये पूर्ण राज्य का मुद्दा उठा रहे हैं।’

इसे भी पढ़ें: दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने के लिए केजरीवाल करेंगे भूख हड़ताल

उन्होंने यह भी दोहराया कि दिल्ली कांग्रेस का रुख है कि वह लोकसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी (आप) के साथ गठबंधन नहीं करेगी। दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री शीला दीक्षित ने कहा, ‘केजरीवाल आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस के साथ आप के गठबंधन की बात कर लोगों को भ्रमित कर रहे हैं। लेकिन कांग्रेस अपने दम पर लोकसभा चुनाव लड़ेगी और दिल्ली में सभी सात सीटों पर जीत दर्ज करेगी।’ महरौली और बदरपुर इलाकों में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुये उन्होंने कहा कि दिल्ली के लोग मुख्यमंत्री केजरीवाल और प्रधानमंत्री मोदी के ‘खोखले वादों’ से तंग आ गये हैं और केन्द्र एवं दिल्ली में कांग्रेस की सरकार चाहते हैं। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।