सौराष्ट्र में पाटीदारों को साधने के मिशन पर केजरीवाल, 10 दिन में दूसरी बार पहुंचे गुजरात, कहा- यहां के लोग भी हमें ख़ूब प्यार करने लगे

सौराष्ट्र में पाटीदारों को साधने के मिशन पर केजरीवाल, 10 दिन में दूसरी बार पहुंचे गुजरात, कहा- यहां के लोग भी हमें ख़ूब प्यार करने लगे
ANI

केजरीवाल ने कहा कि गुजरात के लोग भी अपने परिवार के लिए अच्छे स्कूल, अस्पताल, रोज़गार, बिजली, पानी चाहते हैं। आज उनके साथ खूब बातें हुईं। दिल्ली में सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले 450 बच्चों का आईआईटी में दाखिला हुआ।

गुजरात विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक दल अपने-अपने सियासी समीकरण सेट करने में लगे हैं। प्रदेश में पहली बार आम आदमी पार्टी पूरे दमखम के साथ चुनावी मैदान में उतरने को तैयार है। गुजरात में आदिवासी समुदाय के बाद अब सौराष्ट्र के पाटीदारों को साधने की कवायद के साथ आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने गुजरात के राजकोट में जनसभा को संबोधित किया। आप के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल ने गुजरात के राजकोट में कहा कि दिल्ली, पंजाब अब गुजरात के लोग भी हमें ख़ूब प्यार करने लगे हैं। 

इसे भी पढ़ें: राहुल को अनेक ईमेल भेजने के बाद भी नहीं सुधरे हालात, अब कांग्रेस नेता ने सोनिया को भेजा त्यागपत्र, पीएम से बीते दिनों की थी मुलाकात

केजरीवाल ने कहा कि गुजरात के लोग भी अपने परिवार के लिए अच्छे स्कूल, अस्पताल, रोज़गार, बिजली, पानी चाहते हैं। आज उनके साथ खूब बातें हुईं। दिल्ली में सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले 450 बच्चों का आईआईटी में दाखिला हुआ। 5 साल में दिल्ली के सरकारी स्कूलों का इतना शानदार इंतज़ाम हो सकता है तो बीजेपी ने 27 सालों में यह काम क्यों नहीं किया? वे बस सत्ता में लूटने के लिए आए थे। इसके साथ ही केजरीवाल ने बीजेपी पर तंज कसते हुए कहा कि सीआर पाटिल गुजरात बीजेपी के अध्यक्ष हैं, लेकिन लोग कहते हैं कि गुजरात में मुख्यमंत्री कोई भी बन जाए, सरकार तो वही चलाते हैं। 

इसे भी पढ़ें: पाटीदार समाज को साधने की रणनीति और गुजरात का चुनावी फैक्टर, ये हो सकती हैं देश की अगली राष्ट्रपति, UP से है खास कनेक्शन

गौरतलब है कि गुजरात की कुल 182 सीटों में से 54 सीटें सौराष्ट्र के इलाके से आती हैं। सौराष्ट्र की इन 54 सीटों पर साल 2017 के चुनाव में बीजेपी को कांग्रेस से जबरदस्त टक्कर मिली थी। पाटीदार आंदोलन की वजह से कांग्रेस ने सौराष्ट्र में 55 फीसदी सीटें अपने नाम कर ली थी जबकि बीजेपी को 33 फीसदी सीटें प्राप्त हुई थी। इस तरह से 54 में से 30 सीटों पर कांग्रेस ने फतह हासिल की और बीजेपी को 23 सीटों से संतोष करना पड़ा था। ऐसे में आम आदमी पार्टी सौराष्ट्र के सहारे पाटीदारों को अपने पाले में लाने की कोशिश में लगी है।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...