पाटीदार समाज को साधने की रणनीति और गुजरात का चुनावी फैक्टर, ये हो सकती हैं देश की अगली राष्ट्रपति, UP से है खास कनेक्शन

पाटीदार समाज को साधने की रणनीति और गुजरात का चुनावी फैक्टर, ये हो सकती हैं देश की अगली राष्ट्रपति, UP से है खास कनेक्शन
ANI

देश की एक मात्र महिला राष्ट्रपति बनने का सौभाग्य प्रतिभा पाटिल को मिला। लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार देश को आने वाले समय में दूसरी महिला राष्ट्रपति मिल सकती हैं। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल और गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल को देश का अगला राष्ट्रपति बनाए जाने की चर्चा खूब तेज है।

 25 जुलाई, 2022 को राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद अपना कार्यकाल पूरा करेंगे। उनका कार्यकाल समाप्त होने से पहले राष्ट्रपति का चुनाव संपन्न हो जाना है। राष्ट्रपति चुनाव को लेकर सरगर्मी अभी से तेज हो गई है और सियासी गलियारों में कई नामों की चर्चा भी होने लगी है। इस पद के लिए मीडिया में कई नाम को लेकर चर्चा चल रही है। बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से लेकर आरिफ मोहम्मद खान, राजनाथ सिंह के नामों की चर्चा हो रही है। हालांकि नीतीश ने इन अटकलों को खारिज कर दिया। लेकिन उप-राष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू को रेस में सबसे आगे माना जा रहा है।  देश की एक मात्र महिला राष्ट्रपति बनने का सौभाग्य प्रतिभा पाटिल को मिला। लेकिन सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार देश को आने वाले समय में दूसरी महिला राष्ट्रपति मिल सकती हैं। उत्तर प्रदेश की राज्यपाल और गुजरात की पूर्व मुख्यमंत्री आनंदीबेन पटेल को देश का अगला राष्ट्रपति बनाए जाने की चर्चा खूब तेज है। 

इसे भी पढ़ें: औपचारिक रूप से कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं जिग्नेश मेवानी ! हार्दिक पटेल को लेकर कही यह अहम बात

बता दें कि जब नरेंद्र मोदी गुजरात से दिल्ली आए थे और प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी तो अपने उत्तराधिकारी के तौर पर उन्होंने आनंदीबेन पटेल को ही गुजरात की गद्दी सौंपी थी। हालांकि परिस्थितियां राज्य में उनके अनुकूल नहीं रही और राज्य में पाटीदार आंदोलन के बाद उन्हें सीएम की कुर्सी गंवानी पड़ी। बाद में पटेल को उत्तर प्रदेश का राज्यपाल बना दिया गया था। अब पटेल के राष्ट्रपति बनाए जाने को लेकर चर्चा तेज है। गुजरात में इसी साल चुनाव होने हैं। पटेल समुदाय राज्य में अच्छा खासा प्रभाव है। कहा जाता है कि आबादी में तो ये सिर्फ 15 प्रतिशत हैं, लेकिन 85 प्रतिशत पर भारी पड़ते हैं। आनंदीबेन भी खुद पटेल समुदाय से आती हैं। 

इसे भी पढ़ें: केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह अगले तीन सप्ताह में सात राज्यों का दौरा करेंगे

बीजेपी के इस मिशन में एक समस्या ये खड़ी हो सकती है कि देश के दो शीर्ष पदों राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री पद पर गुजरात के ही दोनों लोग काबिज हो जाएंगे। लेकिन नरेंद्र मोदी उत्तर प्रदेश के वाराणसी से सांसद हैं और उत्तर प्रदेश की भूमिक को वो अपना दूसरा घर भी बताते हैं। इसके साथ ही चर्चा ये भी है कि अगर आनंदी बेन पटेल को राष्ट्रपति बनाने में कोई समस्या आती है तो उन्हें उपराष्ट्रपति पद पर बिठा दिया जा सकता है। उप राष्ट्रपति का कार्यकाल भई आगामी 5 अगस्त को समाप्त हो रहा है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।