दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने की मांग को लेकर केजरीवाल करेंगे भूख हड़ताल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 23, 2019   18:58
दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने की मांग को लेकर केजरीवाल करेंगे भूख हड़ताल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सदन को बताया कि मैं दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिये जाने के लिए एक मार्च से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करूंगा।

नयी दिल्ली। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शनिवार को घोषणा की कि वह दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिये जाने की मांग को लेकर एक मार्च से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करेंगे। दिल्ली विधानसभा के बजट सत्र को संबोधित करते हुए केजरीवाल ने केन्द्र सरकार पर निशाना साधा और कहा कि दिल्ली सरकार शहर के लोगों के प्रति अपनी जिम्मेदारियों को निभाने में असमर्थ है क्योंकि उसके पास अधिकारों की कमी है। केजरीवाल ने सदन को बताया कि मैं दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिये जाने के लिए एक मार्च से अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल करूंगा। लोगों ने हमें इतना कुछ दिया है कि हमें उनके लिए अपना जीवन भी बलिदान करना पड़े, तो वह भी कम है।’

इसे भी पढ़ें: केजरीवाल के खिलाफ SC की अवमानना याचिका दायर करने पर विचार कर रही BJP

उन्होंने दावा किया कि स्वतंत्रता के बाद से दिल्ली के लोग ‘अन्याय और अपमान’ का सामना कर रहे हैं क्योंकि उनके द्वारा निर्वाचित सरकार के पास उनके लिए काम करने की शक्ति का अभाव है। उन्होंने सवाल किया कि दिल्ली की निर्वाचित सरकार लोगों को न्याय नहीं दे सकती, उनके लिए काम नहीं कर सकती और विकास कार्यो को पूरा नहीं कर सकती क्योंकि उसके पास अधिकारों की कमी है और केन्द्र सरकार उसके कामकाज में बाधा उत्पन्न करती है। क्या दिल्ली के मतदाताओं की कीमत अन्य राज्यों की तुलना में कम है?

इसे भी पढ़ें: SC के फैसले पर केजरीवाल ने उठाए सवाल, कहा- संविधान और लोकतंत्र के खिलाफ है

केजरीवाल ने कहा कि केन्द्र सरकार ने दिल्ली पुलिस, नगर निगमों और डीडीए पर नियंत्रण किया हुआ है जिसके कारण लोग उच्च अपराध दर, अस्वच्छता और विकास की कमी का सामना कर रहे है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।