UP Election 2022 | केशव मौर्य का अखिलेश पर हमला, कहा- इन्हें न तो कोरोना का टीका पसंद न माथे का

UP Election 2022 | केशव मौर्य का अखिलेश पर हमला, कहा- इन्हें न तो कोरोना का टीका पसंद न माथे का

आज केशव मौर्य पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बिजनौर में हैं जहां वह मतदाताओं के बीच जाने वाले हैं। उत्तर प्रदेश में 7 चरणों में विधानसभा के चुनाव होने हैं। 10 मार्च को इसके नतीजे भी आएंगे। भाजपा लगातार हिंदुत्व के साथ-साथ योगी सरकार के कामकाज को भी गिना रही है और दावा कर रही है कि एक बार फिर से वह सत्ता में वापसी कर रही है।

उत्तर प्रदेश चुनाव को लेकर आरोप-प्रत्यारोप का दौर लगातार जारी है। नेता एक-दूसरे पर जमकर प्रहार कर रहे हैं। आज इसी कड़ी में उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य ने अखिलेश यादव पर हमला किया है। अखिलेश यादव पर हमला करते हुए केशव मौर्य ने कहा कि इन्हें न तो कोरोना टीका का पसंद है न माथे का टीका पसंद है। जाहिर सी बात है कि अखिलेश को लगातार भाजपा घेरने की कोशिश कर रही है। माथे का टीका से मतलब यह साफ तौर पर तिलक से था। अपने ट्वीट में केशव मौर्य ने लिखा "श्री अखिलेश यादव जी आपको न कोरोना का टीका पसंद है न माथे का टीका पसंद है।"

आपको बता दें कि अखिलेश यादव पर केशव मौर्य लगातार हमलावर हैं। इससे पहले हापुड़ में केशव प्रसाद मौर्य ने दावा किया था कि सत्ता में आने का दम भर रही साइकिल पंचर हो चुकी है। लक्ष्मी जी कभी टूटे वाहन पर सवार नहीं होतीं। उत्तर प्रदेश में लक्ष्मी जी फिर से कमल पर बैठ कर आ रही हैं। इसके साथ ही उन्होंने दावा किया कि 2022 में विपक्षी दलों का सूपड़ा साफ होगा तभी 2024 लोकसभा चुनाव का रास्ता भी साफ होगा। उन्होंने दावा किया कि उत्तर प्रदेश की खुशहाली के लिए 2022 में जीतना जरूरी है।

इसे भी पढ़ें: अखिलेश यादव पर केशव मौर्य का पलटवार, नौटंकी बंद करके 11 मार्च को सैफई जाने की तैयारी करें

आज केशव मौर्य पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बिजनौर में हैं जहां वह मतदाताओं के बीच जाने वाले हैं। उत्तर प्रदेश में 7 चरणों में विधानसभा के चुनाव होने हैं। 10 मार्च को इसके नतीजे भी आएंगे। भाजपा लगातार हिंदुत्व के साथ-साथ योगी सरकार के कामकाज को भी गिना रही है और दावा कर रही है कि एक बार फिर से वह सत्ता में वापसी कर रही है। दूसरी और अखिलेश यादव भी दमखम लगा रहे हैं। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में राष्ट्रीय लोक दल के साथ गठबंधन कर अखिलेश यादव ने अपना पलड़ा जरूर भारी किया है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में अखिलेश लगातार किसानों को साधने की कोशिश कर रहे हैं और जयंत चौधरी के साथ लगातार प्रेस कॉन्फ्रेंस कर रहे हैं। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...