मध्यप्रदेश में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव को लेकर सुप्रीम कोर्ट का खटखटाया दरवाजा,रखी यह मांग

मध्यप्रदेश में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव को लेकर सुप्रीम कोर्ट का खटखटाया दरवाजा,रखी यह मांग

प्रदेश में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव को लेकर अप्रत्यक्ष तरीके से कराए जाने के खिलाफ जबलपुर के नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है।

भोपाल। मध्य प्रदेश में होने वाले नगरीय निकाय चुनाव को लेकर अप्रत्यक्ष तरीके से कराए जाने के खिलाफ जबलपुर के नागरिक उपभोक्ता मार्गदर्शक मंच ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। उन्होंने महापौर का चुनाव पहले की तरह ही सीधा जनता द्वारा कराए जाने की मांग की है।

इसे भी पढ़ें:प्रदेश में राजनेताओं के नाम पर हो रही है ठगी, मुख्यमंत्री निवास में पहुँची फर्जी नोटशीट 

आपको बता दे कि मंच ने अपनी याचिका में MP हाईकोर्ट में 1997 में दिए गए आदेश का हवाला दिया है। 1997 में MP हाईकोर्ट ने भी माना था महापौर का चुनाव जनता द्वारा ही होना चाहिए। हालांकि साल 2010 में सरकार ने महापौर का चुनाव पार्षद द्वारा कराए जाने का अध्यादेश लाया था।

इसे भी पढ़ें:उपचुनाव की बैठक के बाद कांग्रेस में देखी गई गुटबाजी, अरुण यादव के बैठक न पहुचंने पर कांग्रेसी नेताओं ने ली चुटकी 

वहीं इस अध्यादेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल की गई है। मामले में शिवराज सरकार ने महापौर का चुनाव प्रत्यक्ष तौर पर जनता से कराने के निर्णय की जानकारी सुप्रीम कोर्ट को दी जिसके बाद याचिका निराकृत हो गई थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।