एक दशक से कब्जे में रही पोरबंदर सीट पर बीजेपी उतरेगी हैट्रिक लगाने, जानें समीकरण

bjp rally
Creative Commons licenses
रितिका कमठान । Nov 26, 2022 2:43PM
पोरबंदर विधानसभा सीट गुजरात की ऐसी सीट है जहां भाजपा और कांग्रेस ने बारी बारी से जीत दर्ज की है। इस सीट पर एक दशक से भाजपा का कब्जा है। यहां से बाबुभाई बोखीरीया विधायक हैं। इस बार भी पार्टी ने उन्हें मौका दिया है।

पोरबंदर विधानसभा सीट गुजरात की महत्वपूर्ण सीट है। इस सीट पर विजय पाने के लिए तीनों ही दलों ने अपनी ताकत झोंक दी है। ये सीट काफी डामाडोल स्थिति में रही है क्योंकि यहां से भाजपा और कांग्रेस ने ही बारी-बारी जीत दर्ज की है। इस सीट पर बीते एक दशक से बाबुभाई भीमाभाई बोखीरीया ने कब्जा जमाया हुआ है, जो भाजपा से विधायक है। उन्होंने ये सीट अर्जुनभाई देवाभाई मोढवाडीया को 1855 के मार्जिन से हासिल की थी। इस सीट पर कुल 11 उम्मीदवार थे, जिसमें से नौ की जमानत जब्त हुई थी।

इस सीट पर वर्ष 2022 में भी भाजपा ने बाबुभाई भीमाभाई बोखीरीया पर भरोसा दिखाते हुए उन्हें मैदान में उतारा है। वर्ष 2012 और 2017 में उन्हें इस सीट से जीत मिली थी। वर्ष 2012 में उन्होंने कांग्रेस के उम्मीदवार को 17 हजार वोटों के अंतर से मात दी थी। इस वर्ष कांग्रेस की तरफ से दिग्गज नेता अर्जुनभाई देवाभाई मोढवाडीया चुनाव मैदान में हैं जो पुराने खिलाड़ी है। वहीं आम आदमी पार्टी जीवन जुंगी पर भरोसा जताया है। इस सीट पर वैसे को बीते दो बार से भाजपा का कब्जा रहा है। 

भाजपा के बाबुभाई भीमाभाई बोखीरीया ने दो बार कांग्रेस के उम्मीदवार अर्जुनभाई देवाभाई मोढवाडीया को मात देने में सफलता हासिल की थी। इस सीट पर बोखीरीया का पहले भी कब्जा रहा है। वर्ष 1995 और 1998 में भी उन्होंने इस सीट पर जीत दर्ज की थी।

वहीं ये सीट जितनी भाजपा के हक में रही है उतनी ही कांग्रेस के पास भी रही है। वर्ष 2007 और 2002 में कांग्रेस के अर्जुनभाई देवाभाई मोढवाडीया ने इस सीट पर जीत का परचम लहराया था। वर्ष 2022 में हो रहे चुनावों में भी दोनों ही पार्टियों ने अपने दिग्गज नेताओं पर भरोसा जताया है। 

इस सीट पर कुल मतदाता 265280 हैं, जिसमें 135175 पुरुष और 130099 महिला मतदाता है। इस सीट पर कुल छह अन्य मतदाता है। पोरबंदर तटीय इलाका है, जहां माछी समुदाय के लोगों की काफी संख्या है। इस सीट पर 70 हजार माछी समुदाय के लोग है। चुनावों में माछी समुदाय के लोगों की भूमिका काफी अहम मानी जाती है। ये चुनाव का रुख मोड़ने में कारगर साबित होते है। वहीं ब्राह्मण और लोहान समुदाय के भी 50 हजार और 20 हजार लोग इस सीट पर है। 

अन्य न्यूज़