• जानिए कौन हैं प्रफुल्ल खोडा पटेल और क्यों हो रहा इनके नाम पर विवाद ?

अंकित सिंह Feb 25, 2021 14:07

प्रफुल्ल खोडा पटेल के नाम को लेकर इसलिए भी दावा किया जा रहा है क्योंकि डेलकर ने जो आत्महत्या नोट लिखा था उसमें पटेल का नाम था। इस बीच, कथित सुसाइड नोट के बारे में पूछे जाने पर पुलिस के एक अधिकारी ने टिप्पणी करने से इनकार किया और कहा कि डेलकर के परिवार ने मौत के मामले में अब तक कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है।

दादर और नगर हवेली के सांसद मोहन डेलकर की आत्महत्या को लेकर अब राजनीति तेज हो गई है। इस मामले में भाजपा नेता प्रफुल्ल खोडा पटेल का नाम सामने आ रहा है। इन सबके बीच महाराष्ट्र में कांग्रेस नेताओं ने राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख से मांग की है कि दादर नगर हवेली के लोकसभा सदस्य मोहन डेलकर की मौत से पीछे भाजपा की कथित भूमिका की जांच कराई जानी चाहिए। कांग्रेस की इस मांग के बाद गृह मंत्री अनिल देशमुख ने भी इस मामले की जांच के आदेश पुलिस को दे दिए हैं। प्रफुल्ल खोडा पटेल के नाम को लेकर इसलिए भी दावा किया जा रहा है क्योंकि डेलकर ने जो आत्महत्या नोट लिखा था उसमें पटेल का नाम था। इस बीच, कथित सुसाइड नोट के बारे में पूछे जाने पर पुलिस के एक अधिकारी ने टिप्पणी करने से इनकार किया और कहा कि डेलकर के परिवार ने मौत के मामले में अब तक कोई शिकायत दर्ज नहीं कराई है।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र के लातूर में 27-28 फरवरी को जनता कर्फ्यू, जिलाधिकारी बोले- घरों से नहीं निकलें बाहर

आपको बता दें कि प्रफुल्ल खोडा पटेल फिलहाल दादर और नगर हवेली के प्रशासक हैं। इससे पहले पटेल गुजरात की हिम्मत नगर सीट से भाजपा के विधायक रह चुके हैं। साथ ही साथ वह राज्य के गृह राज्य मंत्री भी रह चुके है। दादर और नगर हवेली तथा दमन और दीव के विलय के बाद वह इस केंद्र शासित प्रदेश के पहले प्रशासक बने। लक्षदीप के प्रशासक दिनेश शर्मा के निधन के बाद प्रफुल्ल खोडा पटेल को लक्षद्वीप केंद्र शासित प्रदेश की भी जिम्मेदारी दे दी गई थी। प्रफुल्ल कोडा पटेल भाजपा के गुजरात के बड़े नेताओं में से माने जाते हैं। ऐसे में जाहिर सी बात है कि उनके नाम को लेकर अब इस मामले में राजनीति खूब होगी।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में बढ़ रहा कोरोना का कहर! कोविड-19 के 614 नए केस, पांच और लोगों की मौत

भाजपा नेताओं ने आरोपों को खारिज किया है। केंद्रशासित प्रदेश से निर्दलीय सांसद 58 वर्षीय डेलकर सोमवार को दक्षिण मुंबई स्थित एक होटल के कमरे में पंखे से लटके मिले थे। पुलिस के अनुसार घटनास्थल से गुजराती में लिखा एक सुसाइड नोट भी बरामद हुआ था। कांग्रेस की प्रदेश इकाई के प्रवक्ता सचिन सावंत के नेतृत्व में पार्टी के एक प्रतिनिधिमंडल ने देशमुख के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंस की और आरोप लगाया कि केंद्र सरकार तथा केंद्रशासित प्रदेश के अधिकारियों द्वारा डेलकर को परेशान किया जा रहा था। प्रतिनिधिमंडल ने मांग की की पुलिस को घटना में ‘‘भाजपा की भूमिका की जांच करने’’ का निर्देश दिया जाना चाहिए। गृह मंत्री एवं राकांपा नेता देशमुख ने उन्हें आश्वासन दिया कि दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा। महाराष्ट्र भाजपा के मुख्य प्रवक्ता केशव उपाध्ये ने कांग्रेस के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि राहुल गांधी सहित सभी कांग्रेस नेताओं को झूठ बोलने की आदत है और सावंत को हर चीज में भाजपा का हाथ लगता है।