हजारों लोगों ने मेजर ढौंडियाल को दी श्रद्धांजलि, पत्नी ने कहा- I Love You

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 19, 2019   12:25
हजारों लोगों ने मेजर ढौंडियाल को दी श्रद्धांजलि, पत्नी ने कहा- I Love You

जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादियों के साथ संघर्ष में शहीद हुये मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल को देहरादून स्थित उनके आवास पर हजारों लोगों ने मंगलवार को अंतिम श्रद्धांजलि दी।

देहरादून। जम्मू कश्मीर के पुलवामा में आतंकवादियों के साथ संघर्ष में शहीद हुये मेजर विभूति शंकर ढौंडियाल को देहरादून स्थित उनके आवास पर हजारों लोगों ने मंगलवार को अंतिम श्रद्धांजलि दी। अंतिम संस्कार के लिए हरिद्वार ले जाने से पहले मेजर ढौंडियाल के पार्थिव शरीर को अंतिम दर्शन के लिए रखा गया। इस दौरान हृदय रोगी उनकी मां सरोज, उनकी पत्नी निकिता कौल और उनके रिश्तेदारों एवं मित्रों के लिए खुद को संभालना मुश्किल हो गया। मेजर ढौंडियाल की शादी हुए एक साल भी नहीं हुआ है।

इसे भी पढ़ें: सैन्य सम्मान के साथ छावनी से निकली शहीद अजय की अंतिम यात्रा

उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने ‘शहीद ढौंडियाल अमर रहे’ और ‘वंदे मातरम’ के नारों के बीच ताबूत पर पुष्पचक्र चढ़ाया। तिरंगे में लिपटा हुआ ढौंडियाल का पार्थिव शरीर सोमवार को देर रात घर लाया गया था। आज पूर्ण सैन्य सम्मान के साथ हरिद्वार में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा। हरिद्वार में आज मेजर चित्रेश बिष्ट के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार किया जा रहा है। राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा के पास एक बारूदी सुरंग को निष्क्रिय करने के दौरान बिष्ट शहीद हो गए थे। 

इसे भी पढ़ें: बारूदी सुरंग विस्फोट में शहीद हुए मेजर की अगले महीने होनी थी शादी

मेजर ढौंडियाल को अंतिम श्रद्धांजलि देने वाले प्रमुख लोगों में कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, पूर्व सांसद तरूण विजय, राज्य विधानसभा के अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल, भाजपा के विधायक गणेश जोशी और देहरादून के महापौर सुनील उनियाल गामा शामिल थे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।