ममता बनर्जी ने BSF का अधिकार क्षेत्र बढ़ाने का किया विरोध, बोलीं- कानून व्यवस्था राज्य का विषय है

ममता बनर्जी ने BSF का अधिकार क्षेत्र बढ़ाने का किया विरोध, बोलीं- कानून व्यवस्था राज्य का विषय है

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि ममता बनर्जी ने कहा कि पंजाब की ही तरह हम भी बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र का विरोध कर रहे हैं, जिसे हाल ही में बढ़ाया गया है। हमारे राज्य की सीमाएं पूरी तरह से शांत हैं। कानून व्यवस्था पुलिस का विषय है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सिलीगुड़ी में सोमवार को ऐलान किया कि प्रदेश में कक्षा 9वीं से 12वीं तक के स्कूल 15 नवंबर से फिर से खोले जाएंगे। इसके साथ ही उन्होंने सीमावर्ती क्षेत्रों में सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के अधिकार क्षेत्र को बढ़ाने का भी मुद्दा उठाया। 

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी ने मोदी सरकार के 100 करोड़ वैक्सीनेशन के आंकड़े को बताया जुमला, जानिए क्या कुछ कहा ? 

आपको बता दें कि पश्चिम बंगाल में 16 नवंबर से फिर से स्कूल खुलेंगे क्योंकि 15 नवंबर को बिरसा मुंडा की जयंती के अवसर पर सरकारी अवकाश रहता है। ऐसे में 16 नवंबर को स्कूलों के साथ-साथ कॉलेज भी खोले जाएंगे।

क्या बोलीं ममता बनर्जी ? 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि ममता बनर्जी ने कहा कि पंजाब की ही तरह हम भी बीएसएफ के अधिकार क्षेत्र का विरोध कर रहे हैं, जिसे हाल ही में बढ़ाया गया है। हमारे राज्य की सीमाएं पूरी तरह से शांत हैं। कानून व्यवस्था पुलिस का विषय है। इससे अशांति पैदा होगी। राज्य सरकार राज्य के कानूनों का पालन करेगी।

इसे भी पढ़ें: गोवा में TMC होगी मजबूत, लकी अली, नफीसा अली और रेमो फर्नांडिस पार्टी में होंगे शामिल 

बढ़ाया गया BSF का अधिकार क्षेत्र 

आपको बता दें कि गृह मंत्रालय ने बीएसएफ को पंजाब, पश्चिम बंगाल और असम में अंतरराष्ट्रीय सीमा से मौजूदा 15 किमी की जगह 50 किमी के बड़े क्षेत्र में तलाशी लेने, जब्ती करने और गिरफ्तार करने की शक्ति दे दी है। वहीं, पाकिस्तान की सीमा से लगते गुजरात के क्षेत्रों में यह दायरा 80 किमी से घटाकर 50 किमी कर दिया गया है तथा राजस्थान में 50 किलोमीटर तक की क्षेत्र सीमा में कोई बदलाव नहीं किया गया है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।