कानून की छात्रा ने शादी के 7 महीने बाद की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिख कर गई- पापा आप सही थे

कानून की छात्रा ने शादी के 7 महीने बाद की आत्महत्या, सुसाइड नोट में लिख कर गई- पापा आप सही थे
प्रतिरूप फोटो

अंग्रेजी अखबार TOI की एक खबर के मुताबिक, युवती ने सीलिंग फैन से लटक कर अपनी जान दे दी। मृतक युवती के पिता ने बताया कि, उनकी बेटी को उसके ससुराल वालों ने बहुत टॉर्चर किया और सास, ससुर और पति ने उसको काफी प्रताड़ित किया था।

प्यार में इंसान सही और गलत सब भूल जाता है और जब हौश आता है तब पता चलता है कि यह एक बस गलती के सिवा कुछ नहीं था। ऐसा ही कुछ केरल में एक लड़की के साथ हुआ।  21 साल की लॉ की छात्र को फेसबुक के जरिए एक शख्स से प्यार हो गया और कुछ ही दिनों की बातचीत में दोनों को एक -दूसरे से प्यार हो गया और सीधा शादी करने का बड़ा फैसला कर लिया। केरल के इदायापुरम की रहने वाली लड़की अब इस दुनिया में नहीं है। 21 साल की मोफिया परवीन दिलशाद ने सुसाइड कर लिया है और अपने सुसाइड लेटर में लिखा कि, पापा आप सही थे, वो एक अच्छा आदमी नहीं था। बता दें कि, सुसाइड नोट में मोफिया ने अपने पति मुहम्मद सुहैल, ससुर यूसुफ और अपनी सास रूखिया को अपनी मौत का जिम्मेदार ठहराया है।

इसे भी पढ़ें: सरकारी डाक्टर ने फांसी लगाई, पुलिस को मिला है एक सुसाइड नोट

अंग्रेजी अखबार TOI की एक खबर के मुताबिक, युवती ने सीलिंग फैन से लटक कर अपनी जान दे दी। मृतक युवती के पिता ने बताया कि, उनकी बेटी को उसके ससुराल वालों ने बहुत टॉर्चर किया और सास, ससुर और पति ने उसको काफी प्रताड़ित किया था। पिता ने आगे बताया कि, मोफिया ने अलुवा के एसपी से शिकायत दर्ज कराई थी औक दोनों पक्षों के घर वालों को पुलिस स्टेशन बुलाकर मामला सुलझाने की कोशिश की गई थी और इंस्पेक्टर सीएल सुधीर ने ससुराल वालों का पक्ष लिया था। इस बात से लड़की बेहद निराश हुआ और सुसाइड कर लिया। मोफिया और मुहम्मद सुहैल की शादी इसी साल अप्रैल में हुई थी और शादी के समय लड़के ने बताया था कि वह युएई में जॉब करते है और वह एक ब्लॉगर भी है। शादी के बाद सुहैल ने कहा कि वह मूवी प्रोड्यूसर बनना चाहता है और इसके लिए मोफिया से उसने दहेज में 40 लाख मांगे थे। मोफिया दहेज में विश्वास नहीं रखती थी इसलिए उसने मना कर दिया जिसके बाद ससुराल वालों ने मोफिया को प्रताड़ित करना शुरू कर दिया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।