दिल्ली में शुक्रवार को कोविड-19 के 25 हजार से कम मामले सामने आ सकते हैं: जैन

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 14, 2022   13:18
दिल्ली में शुक्रवार को कोविड-19 के 25 हजार से कम मामले सामने आ सकते हैं: जैन

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में शुक्रवार को कोविड-19 के 25 हजार से कम नए मामले सामने आ सकते हैं। वहीं, कोविड-19 के कारण जान गंवाने वाले 75 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जिन्होंने टीके नहीं लगवाए थे।

नयी दिल्ली। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में शुक्रवार को कोविड-19 के 25 हजार से कम नए मामले सामने आ सकते हैं। वहीं, कोविड-19 के कारण जान गंवाने वाले 75 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जिन्होंने टीके नहीं लगवाए थे। जैन ने पत्रकारों से कहा, ‘‘ दिल्ली में आज 25 हजार से कम नए मामले सामने आने का अनुमान है।’’ स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार, दिल्ली में बृहस्पतिवार को कोविड-19 के सर्वाधिक 28,867 नए ममाले सामने आए थे, जबकि 31 और मरीजों की इससे मौत हो गई थी।

इसे भी पढ़ें: संतुलन बनाए रखने पर अमेरिका का ध्यान, S-400 मिसाइल खरीद मामले में भारत को मिल सकती है CAATSA प्रतिबंधों में छूट

वहीं, संक्रमण दर बढ़कर 29.21 प्रतिशत हो गई थी। इससे पहले, दिल्ली में 20 अप्रैल 2021 को सर्वाधिक 28,395 दैनिक मामले सामने आए थे। आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, नौ जनवरी से 12 जनवरी के बीच जिन 97 लोगों की मौत संक्रमण से हुई, उनमें से 70 लोगों का टीकाकरण नहीं हुआ था, जबकि 19 ने पहली खुराक ही ली थी। वहीं, आठ का पूर्ण टीकाकरण हो चुका था।

इसे भी पढ़ें: नेताओं के इस्तीफे पर बोले सिद्धार्थ नाथ सिंह, टिकट कटने पर लोग जाते हैं, पीएम मोदी देश के सबसे बड़े ओबीसी नेता

जैन ने कहा, ‘‘ कोविड-19 के कारण जान गंवाने वाले 75 प्रतिशत मरीज ऐसे थे, जिन्होंने टीके नहीं लगवाए थे। टीकाकरण करना आवश्यक है। ऐसे भी कई मरीज थे, जो संक्रमण की चपेट में आने से पहले किसी अन्य गंभीर बीमारी से पीड़ित थे।’’ मंत्री ने बताया कि अस्पतालों में संक्रमितों के लिए आरक्षित 13000 से अधिक बिस्तर (बेड) खाली हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।