CAA पर बोले गुजरात के डिप्टी सीएम, आजादी के नारे लगाने वालों को देश छोड़कर जाने दें

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 24, 2020   10:54
CAA पर बोले गुजरात के डिप्टी सीएम, आजादी के नारे लगाने वालों को देश छोड़कर जाने दें

गुजरात के उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा कि जो सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं और ‘आजादी’ मांग रहे हैं उन्हें देश छोड़कर जाने दिया जाना चाहिए। पटेल ने कहा, ''देश को आजादी 1947 में मिल गयी थी लेकिन आप देखते हैं कि कुछ लोग जमा होते हैं और ‘आजादी’ के नारे लगाते हैं। आपको किससे आजादी चाहिए?''

अहमदाबाद। गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने बृहस्पतिवार को कहा कि जो संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं और ‘आजादी’ मांग रहे हैं उन्हें देश छोड़कर जाने दिया जाना चाहिए। वह यहां नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर आयोजित एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। पटेल ने कहा, ‘‘देश को आजादी 1947 में मिल गयी थी लेकिन आप देखते हैं कि कुछ लोग जमा होते हैं और ‘आजादी’ के नारे लगाते हैं। आपको किससे आजादी चाहिए? क्या आपको अपने माता-पिता से आजादी चाहिए? क्या आप अपने पति से आजादी चाहती हैं? मैं इसे समझ नहीं पाता हूं।’’

इसे भी पढ़ें: CAA को लेकर कन्हैया का निशाना, बौखलाया तड़ीपार, साहेब बेकरार, हर कोने में शाहीन बाग तैयार

उन्होंने कहा, ‘‘ भारत एक आजाद देश है और दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र है।’’ भाजपा नेता ने कहा, ‘‘ अगर वे भारत से आजादी चाहते हैं तो हमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से आग्रह करना चाहिए कि वह सीमा खोल दें और ये जहां जाना चाहते हैं, चले जाएं।’’ उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि अहमदाबाद में सीएए विरोधी प्रदर्शनों के दौरान पुलिस पर पूर्व योजना के तहत हमला किया गया था। उन्होंने कहा कि इस दौरान ट्रक भरकर पत्थर इकट्ठा किया गया था लेकिन वे भूल गए कि यह गुजरात है कश्मीर नहीं।

इसे भी देखें: केंद्र का पक्ष सुनकर ही CAA पर कोई फैसला करेगा Supreme Court, समझिये पूरा मामला





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।