दिल्ली में भीषण गर्मी के बीच मौसम का बदला मिजाज, हल्की बारिश हुई, एक सप्ताह तक लू के कोई आसार नहीं

Delhi Rains
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
दिल्ली में शुक्रवार को तेज हवाओं के साथ गरज के साथ बौछारें पड़ने से शाम को लोगों को भीषण गर्मी से कुछ राहत मिली। सफदरजंग वेधशाला में रविवार को अधिकतम तापमान 45.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था, जो इस साल अब तक का सबसे अधिक तापमान है।

नयी दिल्ली। दिल्ली में शुक्रवार को तेज हवाओं के साथ गरज के साथ बौछारें पड़ने से शाम को लोगों को भीषण गर्मी से कुछ राहत मिली। दिल्ली के प्राथमिक मौसम केंद्र सफदरजंग वेधशाला में अधिकतम तापमान सामान्य से पांच डिग्री अधिक 44.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। सफदरजंग वेधशाला में रविवार को अधिकतम तापमान 45.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया था, जो इस साल अब तक का सबसे अधिक तापमान है। दक्षिण-पश्चिम दिल्ली के नजफगढ़ में पारा 47.5 डिग्री सेल्सियस और शहर के उत्तर-पश्चिमी इलाके मुंगेशपुर में 47.1 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया था। पीतमपुरा, स्पोर्ट्स कॉम्प्लेक्स, जाफरपुर, रिज और पालम के मौसम केंद्रों में पारा क्रमश: 47 डिग्री सेल्सियस, 46.2 डिग्री सेल्सियस, 46.1 डिग्री सेल्सियस, 46 डिग्री सेल्सियस, 45.7 डिग्री सेल्सियस और 45.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 

इसे भी पढ़ें: राष्ट्रीय राजधानी में मौसम विभाग ने जताया आंशिक रूप से बादल छाए रहने का अनुमान 

दिल्ली के कुछ हिस्सों में शाम को आंशिक रूप से बादल छाए रहने, बूंदाबांदी और ओलावृष्टि होने से कुछ देर के लिए लोगों को राहत मिली। मौसम पूर्वानुमानकर्ताओं ने कहा कि पंजाब और हरियाणा पर बने एक चक्रवाती परिसंचरण के कारण शनिवार को रुक-रुक कर गरज के साथ बौछारें पड़ने की उम्मीद है। एक ताजा पश्चिमी विक्षोभ के कारण रविवार से उत्तर पश्चिमी भारत में बारिश और गरज के बौछारें पड़ने की उम्मीद है। इसके नतीजतन, दिल्ली में मंगलवार तक अधिकतम तापमान 37 डिग्री सेल्सियस तक गिर जाएगा। निजी मौसम पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट के मौसम विज्ञान और जलवायु परिवर्तन विभाग के उपाध्यक्षमहेश पलावत ने कहा, एक के बाद एक पश्चिमी विक्षोभ गर्मी से रुक-रुक कर राहत देता रहेगा। एक सप्ताह तक लू की संभावना नहीं है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़