• चाचा-भतीजे में छिड़ी जंग, चिराग ने लोकसभा अध्यक्ष को लिखा पत्र, समर्थकों ने किया पशुपति के घर का घेराव

चिराग पासवान ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने कहा कि पशुपति कुमार पारस को लोकसभा में लोजपा का नेता घोषित करने का निर्णय हमारी पार्टी के संविधान के प्रावधान के विपरीत है।

नयी दिल्ली। बिहार में लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के कब्जे की लड़ाई अब तेज हो गई है। पहले रामविलास पासवान के भाई पशुपति पारस ने पांच सांसदों के साथ मिलकर चिराग पासवान को राष्ट्रीय अध्यक्ष के पद से हटा दिया और फिर चिराग पासवान ने पांचों सांसदों को पार्टी से निकाल दिया। पिछले कुछ दिनों से चाचा-भतीजे के बीच वर्चस्व की लड़ाई जारी है। अब देखना यह होगा कि आगे क्या होता है। 

इसे भी पढ़ें: नीतीश-चिराग की लड़ाई में पिस रही भाजपा, मौका भुनाने में जुटी राजद 

बता दें कि चिराग पासवान ने लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला को पत्र लिखा है। जिसमें उन्होंने कहा कि पशुपति कुमार पारस को लोकसभा में लोजपा का नेता घोषित करने का निर्णय हमारी पार्टी के संविधान के प्रावधान के विपरीत है। ऐसे में उन्होंने अध्यक्ष से उनके पक्ष में नया सर्कुलर जारी करने का अनुरोध किया है।

लोकसभा अध्यक्ष को लिखे पत्र में चिराग पासवान ने अनुरोध किया कि फिर से उन्हें संसदीय दल का नेता नियुक्त किया जाए। 

इसे भी पढ़ें: बगावत के बीच प्रिंस पासवान की बढ़ी मुश्किलें, दिल्ली में लड़की ने दर्ज कराई रेप की शिकायत 

चिराग के समर्थकों ने घेरा चाचा का आवास

लोजपा में जारी घमासान बढ़ता जा रहा है। बुधवार को चिराग पासवान के समर्थकों ने दिल्ली में पशुपति पारस के आवास का घेराव किया। वहीं, चिराग पासवान प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले थे लेकिन किसी कारणवस इसे रद्द कर दिया गया है।