शिमला में मनीष सिसोदिया के कार्यक्रम में जमकर हुआ हंगामा, AAP कार्यकर्ताओं का फूटा गुस्सा

Manish Sisodia
प्रतिरूप फोटो
Twitter
आम आदमी पार्टी कार्यकर्ता मनीष सिसोदिया से मिलना चाहते थे लेकिन उन्हें मनीष सिसोदिया से मिलने नहीं दिया जा रहा था। जिसके बाद पार्टी कार्यकर्ता भड़क गए और उन्होंने जमकर बवाल काटा। पार्टी कार्यकर्ताओं ने यहां तक आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी ने भ्रष्ट लोगों को तरजीह दी जा रही है।

शिमला। हिमाचल प्रदेश के शिमला में दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी नेता मनीष सिसोदिया के कार्यक्रम में जमकर हंगामा हुआ। आपको बता दें कि आम आदमी पार्टी कार्यकर्ता मनीष सिसोदिया से मिलना चाहते थे लेकिन उन्हें मनीष सिसोदिया से मिलने नहीं दिया जा रहा था। जिसके बाद पार्टी कार्यकर्ता भड़क गए और उन्होंने जमकर बवाल काटा। पार्टी कार्यकर्ताओं ने यहां तक आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी ने भ्रष्ट लोगों को तरजीह दी जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा ‘दंगों की राजनीति’ कर रही है, आप अच्छी शिक्षा प्रदान कर रही है: सिसोदिया 

हिमाचल में इस साल के अंत में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में तमाम राजनीतिक दल अपनी-अपनी रणनीतियां बनाने में जुटे हुए हैं। जिसको लेकर लगातार हिमाचल प्रदेश का दौरा कर रहे हैं। इसी क्रम में आम आदमी पार्टी नेता मनीष सिसोदिया भी शिमला पहुंचे, जहां पर पार्टी कार्यकर्ताओं ने उनका जोरदार स्वागत किया।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एक पार्टी कार्यकर्ता ने आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी में भ्रष्ट लोगों को तरजीह दी जा रही है, उन लोगों को तवज्जों नहीं मिल रही, जिन्होंने पार्टी को खड़ा किया है। हालांकि हंगामे के वक्त मनीष सिसोदिया कार्यक्रम से चले गए थे। लेकिन आरोप लगाया जा रहा है कि मनीष सिसोदिया पार्टी कार्यकर्ताओं से नहीं मिल रहे हैं। 

इसे भी पढ़ें: मोदी सरकार के आठ साल, शिमला में होगा भव्य कार्यक्रम, विशाल जनसभा को संबोधित करेंगे PM मोदी 

भाजपा सरकार पर बरसे सिसोदिया

मनीष सिसोदिया ने जयराम ठाकुर सरकार पर निशाना साधते हुए आरोप लगाया कि राज्य में शिक्षा व्यवस्था चरमरा रही है। इसके साथ ही उन्होंने दावा किया कि उनकी पार्टी गुणवत्ता परक शिक्षा पर भरोसा करती है, वहीं भाजपा दंगों की राजनीति करती है। मनीष सिसोदिया ने कहा कि प्रदेश में शिक्षा व्यवस्था चरमरा रही है जहां सरकारी विद्यालयों में बुनियादी संरचना और गुणवत्ता परक शिक्षा नहीं है, वहीं निजी स्कूलों में शुल्क बहुत अधिक है क्योंकि राज्य सरकार ने उन्हें लोगों को लूटने की छूट दे रखी है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़