महाराष्ट्र के पूर्व ऊर्जा मंत्री ने अधिक बिल आने के खिलाफ किया प्रदर्शन, जलाए बिजली के बिल

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2020   14:36
महाराष्ट्र के पूर्व ऊर्जा मंत्री ने अधिक बिल आने के खिलाफ किया प्रदर्शन, जलाए बिजली के बिल

ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने इस माह ही शुरुआत में बिजली के बिल संबंधी समस्या का सामना कर रहे लोगों को राहत देने का संकेत देते हुए कहा था कि दिवाली का उपहार जल्द मिलेगा।

नागपुर। भाजपा नेता एवं महाराष्ट्र के पूर्व ऊर्जा मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने वैश्विक महामारी के दौरान अधिक बिल आने की शिकायत करने वाले लोगों को राहत पहुंचाने की दिशा में महाराष्ट्र सरकार के कोई कदम ना उठाने के खिलाफ सोमवार को प्रदर्शन किया और बिजली के बिल जलाए। राज्य के ऊर्जा मंत्री नितिन राउत ने इस माह ही शुरुआत में बिजली के बिल संबंधी समस्या का सामना कर रहे लोगों को राहत देने का संकेत देते हुए कहा था कि दिवाली का उपहार जल्द मिलेगा। मंत्री ने हालांकि कुछ दिन पहले कहा कि सरकार अभी तक बिजली के बढ़े बिल की समस्याओं का कोई समाधान नहीं कर पाई है और ऐसे में लोगों को उसका पूरा भुगतान करना होगा। 

इसे भी पढ़ें: चुनाव से पहले तैयार हुई टीएमसी के बयानों की पिच, भाजपा के नेताओं पर लगाया बड़ा आरोप

सरकार के खिलाफ भाजपा के राज्यव्यापी प्रदर्शन के तौर पर बावनकुले ने पार्टी कार्यकर्ताओं के साथ नागपुर के कोराडी क्षेत्र में महादुला स्थित अपने आवास के पास सोमवार को बिजली के बिल जलाए। बावनकुले ने पिछले सप्ताह मांग की थी कि जिन लोगों ने प्रतिदिन 300 यूनिट बिजली का इस्तेमाल किया, उन्हें मार्च से जून की अवधि के बीच बिल भुगतान में छूट मिलनी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा था कि लॉकडाउन की वजह से कई लोगों की नौकरी भी चली गई और कई लोगों को बढ़े हुए बिल मिले हैं। सरकार को इन बिलों को ठीक करना चाहिए। राउत ने पिछले सप्ताह कहा था कि सरकार इन बिजली के बिलों के संबंध में कोई राहत नहीं दे पाएगी। उन्होंने दावा किया था कि बिजली कम्पनियों को भारी नुकसान हो रहा है और इसके लिए भाजपा सरकार से विरासत में मिली ‘‘गड़बड़’’ जिम्मेदार है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।