महाराष्ट्र के मंत्री बोले, अल्लाह ने 2011 में ही तय किया था कोरोना आएगा

Grave
अभिनय आकाश । Feb 20, 2021 7:03PM
हाराष्ट्र सरकार के आवासीय मंत्री जितेंद्र आव्हाड ने कहा है कि अल्लाह ने 2011 में ही बता दिया था कि 2020 में कोरोना आएगा। आव्हाड ने कहा कि इसलिए कोरोना आने के पहले हमने कब्रिस्तान बना लिए। मुंब्रा-कलावा में आव्हा़ड ने ये विवादित बयान दिया, जिसे मुस्लिम बहुल इलाका माना जाता है।

देश में कोरोना के नए मामलों में पिछले कुछ महीनों की तुलना में काफी कमी आ रही है। देश में कम होते कोरोना के आंकड़ों के बीच महाराष्ट्र में तेजी से बढ़ते नए केस से चिंता की स्थिति बनी हुई। राज्य में कोरोना के नए लहर आने की आशंका जताई जा रही है। महाराष्ट्र में बीते दिनों एक दिन में पांच हजार से अधिर नए मामले सामने आए। बढ़ रहे खतरे को देखते हुए सरकार की ओर से सख्त गाइडलाइंस जारी की गई और कुछ शहरों में वीकेंड लॉकडाउन और पाबंदियां भी लगाई गई। लेकिन राज्य में कोरोना के फिर से बढ़ते मामलों के बीच सरकार के एक मंत्री का अजीबोगरीब बयान सामने आया है। जिसे सुनने के बाद आपके मुंह से भी निकल पड़ेगा कि अगर पहले से पता था तो जिंदगियां बचाने की बजाए कब्रिस्तान बनवाना क्यों चुना?

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र में बिगड़ते हालात से पूरे देश के माथे पर क्यों चिंता की लकीरें, बढ़ते कोरोना के मामलों के पीछे क्या है बड़ा कारण?

दरअसल महाराष्ट्र सरकार के आवासीय मंत्री जितेंद्र आव्हाड ने कहा है कि अल्लाह ने 2011 में ही बता दिया था कि 2020 में कोरोना आएगा। आव्हाड ने कहा कि इसलिए कोरोना आने के पहले हमने कब्रिस्तान बना लिए। मुंब्रा-कलावा में आव्हा़ड ने ये विवादित बयान दिया, जिसे मुस्लिम बहुल इलाका माना जाता है। साल 2019 के विधानसभा में जितेंद्र अव्हाड ने राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के टिकट पर यहां से चुनाव जीता और उद्धव सरकार में मंत्री बने। 

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र के औरंगाबाद में कोरोना वायरस के 156 नए मामले, चार मौत हुईं

क्या कहा जितेंद्र अव्हाड ने 

जितेंद्र अव्हाड ने मुंब्रा-कलावा इलाके में कहा कि ये तो अल्लाह ने सोच कर रखा था 2021 में कि 2020 में कोरोना आएगा। आने के पहले यहां पर कब्रिस्तान आना चाहिए। इसलिए 2011 में सेंशन हुई थी और 2019 में कब्रिस्तान की व्यवस्था कर दी गई। जैसे आप लोग बोलते रहते हैं कि सब करता है अल्लाह करता है तो ये अल्लाह की ही बनाई चीज है। 

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़