बंगाल में गोत्र कार्ड पर घमासान तेज, महुआ ने बताया चोटीवाला राक्षस, गिरिराज बोले- धोते रहिये रोहिंग्या के पैर

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 31, 2021   17:26
बंगाल में गोत्र कार्ड पर घमासान तेज, महुआ ने बताया चोटीवाला राक्षस, गिरिराज बोले- धोते रहिये रोहिंग्या के पैर

टीएमसी सांसद मोइत्रा ने ट्विट किया कि केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह कहते हैं कि ममता का गोत्र रोहिंग्याओं का है। हमें इस पर गर्व है। ये चोटीवाले राक्षस गोत्र से तो कहीं बेहतर है। गिरिराज ने लिखा शिखा/चुटिया हिंदुस्तान की सनातन सभ्यता और संस्कृति का अभिन्न अंग रहा है, वोट की खातिर सनातन को गाली देना उचित नही है।

पश्चिम बंगाल में दूसरे फेज के लिए 1 अप्रैल को मतदान है। लेकिन उससे पहले ही गोत्र को लेकर बंगाल की सियासत गर्म हो गई है। ममता बनर्जी ने कल अपना गोत्र बताया था जिसके बाद गिरिराज सिंह से लेकर असदुद्दीन ओवैसी तक ने बयान दे डाला था। लेकिन अब तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा भी इस विवाद में कूद पड़ी हैं। टीएमसी सांसद मोइत्रा ने ट्विट किया कि केंद्रीय मंत्री गिरिराज सिंह कहते हैं कि ममता का गोत्र रोहिंग्याओं का है। हमें इस पर गर्व है। ये चोटीवाले राक्षस गोत्र से तो कहीं बेहतर है। दरअसल, मोइत्रा ने गिरिराज के ममता के गोत्र बताने के बाद उनपर तंज कसते हुए कहा था कि रोहिंग्या को वोट के लिए बसाने वाले, दुर्गा/काली पूजा रोकने वाले, हिंदुओ को अपमानित करने वाले, अब हार के ख़ौफ़ से गोत्र पर उतर गए। शांडिल्य गोत्र” सनातन और राष्ट्र के लिए समर्पित है, वोट के लिए नहीं ।

इसे भी पढ़ें: भाजपा ने ममता बनर्जी के खिलाफ निर्वाचन आयोग में शिकायत दर्ज कराई

अब जब ममता की पार्टी की सांसद ने गिरिराज को लेकर निशाना साधा तो वो कहां चुप रहने वाले थे। उन्होंने लिखा कि शिखा/चुटिया हिंदुस्तान की सनातन सभ्यता और संस्कृति का अभिन्न अंग रहा है और वोट की खातिर सनातन को गाली देना उचित नही है। रोहिंग्या के पैर धोते रहिये ...जल्द ही हिदुस्तान जवाब मांगेगा ।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।