दिलीप घोष का दावा, वृहद बांग्लादेश बनाना चाहती हैं ममता बनर्जी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 28, 2021   17:50
दिलीप घोष का दावा, वृहद बांग्लादेश  बनाना चाहती हैं ममता बनर्जी

फेसबुक पोस्ट के साथ दो और तस्वीरें जुड़ी हैं, जिनमें से एक तस्वीर में 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान बांग्लादेशी कलाकार फिरदौस को तृणमूल कांग्रेस के लिये प्रचार करते दिखाया गया है जबकि दूसरी तस्वीर में बांग्लादेशी क्रिकेटर उत्तरी कोलकाता में टीएमसी विधायक द्वारा आयोजित दुर्गा पूजा का उद्घाटन करते दिखाई दे रहे हैं।

कोलकाता। भाजपा की पश्चिम बंगाल इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने बृहस्पतिवार को एक फेसबुक पोस्ट के जरिये मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर आरोप लगाया कि वह अपनी जनसभाओं में जय बांग्ला के नारे लगाकर वृहद बांग्लादेश के निर्माण का प्रयास कर रही हैं। घोष ने अपने आधिकारिक फेसबुक अकाउंट पर एक पोस्टर साझा किया, जिसमें बनर्जी कीएक तस्वीर दिख रही है, जिसके साथ लिखा है एक सम्मानित व्यक्ति जय बांग्ला के नारे लगा रहा है, जो इस्लामी देश बांग्लादेश का राष्ट्रीय नारा है। पोस्ट में लिखा है, वह वृहद बांग्लादेश के निर्माण के उद्देश्य के साथ लड़ाई लड़ रही हैं।

फेसबुक पोस्ट के साथ दो और तस्वीरें जुड़ी हैं, जिनमें से एक तस्वीर में 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान बांग्लादेशी कलाकार फिरदौस को तृणमूल कांग्रेस के लिये प्रचार करते दिखाया गया है जबकि दूसरी तस्वीर में बांग्लादेशी क्रिकेटर उत्तरी कोलकाता में टीएमसी विधायक द्वारा आयोजित दुर्गा पूजा का उद्घाटन करते दिखाई दे रहे हैं। टीएमसी सांसद सौगत रॉय ने घोष की फेसबुक पोस्ट पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए इससे फिजूल की बात करार दिया। रॉय ने कहा, यह निंदनीय है कि भाजपा सांप्रदायिक ध्रुवीकरण की अपनी राजनीति बंगाल में भी आजमाने का प्रयास कर रही हैं। टीएमसी प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा, घोष यह भूल गए हैं कि भाजपा ने टीएमसी के सदस्यों को अपने पाले में ले जाकर अपने नेताओं की संख्या बढ़ाई है, जोकि उसके दिवालियेपन को दर्शाता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।