गुजरात में ‘जिहादी षडयंत्र’ मामले में वांछित व्यक्ति गिरफ्तार

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 23, 2019   15:51
गुजरात में ‘जिहादी षडयंत्र’ मामले में वांछित व्यक्ति गिरफ्तार

गुजरात के पूर्व मंत्री हरेन पांड्या की हत्या का साजिशकर्ता था। गोहिल ने कहा कि हालांकि यह जांच का विषय है कि शेख सीधे तौर पर इस हत्या षडयंत्र से जुड़ा था या नहीं। इस मामले में अभी तक शेख सहित 64 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है और 35 अब भी फरार हैं।

अहमदाबाद। गुजरात में ‘जिहादी षडयंत्र’ मामले में वांछित एक व्यक्ति को सोमवार सुबह उस समय गिरफ्तार किया गया जब वह सऊदी अरब से यहां हवाईअड्डे पर पहुंचा था। अधिकारियों ने यह जानकारी दी। सहायक पुलिस आयुक्त बी वी गोहिल ने संवाददाताओं को बताया कि एक गुप्त सूचना के आधार पर अपराध शाखा और राज्य आतंक विरोधी दस्ते ने 50 वर्षीय युसूफ अब्दुल वहाब शेख को अहमदाबाद हवाईअड्डे पर गिरफ्तार किया। शेख गुजरात के ‘जिहादियों’ को धन मुहैया कराने में कथित तौर पर शामिल था। वह राज्य में 2002 में हुए गोधरा दंगे का बदला लेने के लिए धन मुहैया कराने में शामिल था। वह 1999 से सऊदी अरब में रह रहा था और कपड़ा कारोबार से जुड़ा था। वह अंतिम बार 2002 में गुजरात आया था। उन्होंने बताया कि वह सोमवार को अपनी दूसरी पत्नी से मिलने यहां आया था।

इसे भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर में जिंदा पकड़े गए हिज्बुल मुजाहिद्दीन के 3 आतंकवादी

उसकी पत्नी कुछ साल पहले अपने बच्चों के साथ अहमदाबाद आ गई थी। प्राथमिक जांच खुलासा करती है कि शेख ने राज्य के जिहादियों को तीन बार अपने भाई अब्दुल माजिद और अन्य व्यक्ति अब्दुल गुलाम अली के माध्यम से धन भेजा था। उन्होंने कहा, ‘‘ उसका मुख्य काम गुजरात में जिहाद करने के लिए सऊदी अरब में धन जमा करना था और उसे ‘अनगड़िया’ सेवा यानी अनाधिकृत कुरियर सेवा द्वारा राज्य में भेजना था। उसने अपने भाई और अन्य की मदद से तीन बार धन भेजा था।’’ यह धन कट्टरपंथी मुफ्ती सुफियन के लिए था। ऐसा माना जाता है कि वह गुजरात के पूर्व मंत्री हरेन पांड्या की हत्या का साजिशकर्ता था। गोहिल ने कहा कि हालांकि यह जांच का विषय है कि शेख सीधे तौर पर इस हत्या षडयंत्र से जुड़ा था या नहीं। इस मामले में अभी तक शेख सहित 64 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है और 35 अब भी फरार हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।