खरगोन हिंसा: दंगाइयों ने जला दिया था मंजुला केवट का घर, अब शिवराज सरकार ने दिया 1 BHK का फ्लैट

खरगोन हिंसा: दंगाइयों ने जला दिया था मंजुला केवट का घर, अब शिवराज सरकार ने दिया 1 BHK का फ्लैट
ANI twitter

मंजुला केवट ने कहा कि रामनवमी के दौरान, मेरा घर दंगाइयों ने जला दिया था; मैंने एक वीडियो बनाया, जो वायरल हो गया और वह सीएम (शिवराज सिंह चौहान) तक पहुंच गया। अब, मुझे एक घर दिया गया है। मैं अपने 2 बच्चों के साथ शिफ्ट हो गयी हूं। मैं सीएम को धन्यवाद देती हूं।

रामनवमी की जुलूस यात्रा के दौरान खरगोन में हिंसा भड़क गई थी। इस हिंसा में दो समुदायों के लोगों के बीच आपस में जबरदस्त झड़प हो गई थी। दंगाइयों ने वहां कुछ घरों में आग तक लगा दी थी। इन्हीं घरों में एक घर मंजुला केवट का भी था। रामनवमी हिंसा के दौरान खरगोन में दंगाइयों ने मंजुला केवट के घर में आग लगा दी थी। लेकिन अब मंजुला केवट को एक नया घर मिल गया है। दरअसल मध्यप्रदेश की शिवराज सिंह चौहान की सरकार ने मंजुला केवट को एक 1 BHK का फ्लैट मुहैया कराया है, जहां वह रहने पहुंच चुकी हैं।

मंजुला केवट ने कहा कि रामनवमी के दौरान, मेरा घर दंगाइयों ने जला दिया था; मैंने एक वीडियो बनाया, जो वायरल हो गया और वह सीएम (शिवराज सिंह चौहान) तक पहुंच गया। अब, मुझे एक घर दिया गया है। मैं अपने 2 बच्चों के साथ शिफ्ट हो गयी हूं। मैं सीएम को धन्यवाद देती हूं। खरगोन की मुख्य नगर अधिकारी प्रियंका पटेल ने बताया कि दंगों के दौरान मंजुला केवट का घर पूरी तरह जल गया। मुख्यमंत्री के निर्देशानुसार हमें अपनी साझेदारी में किफायती आवास (एएचपी) योजना के तहत पीड़ितों को राहत प्रदान करनी है; मंजुला केवट को 1-बीएचके का घर दिया गया है।

इसे भी पढ़ें: साम्प्रदायिक भाईचारे से खिलवाड़ कर रहे लोगों को रोकना होगा

आपको बता दें कि रामनवमी के दौरान एक शोभा यात्रा के समय खरगोन में हिंसा भड़क गई थी। उसके बाद से यहां लगातार सख्ती की जा रही है। अब तक इस हिंसा को लेकर 74 प्राथमिकी दर्ज कर लिए गए हैं जबकि 177 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है। खरगोन में फिलहाल शांति बनी हुई है। खरगोन में जब हिंसा हुई थी तो पुलिस वाले भी हिंसा के शिकार हुए थे। एसपी को गोली तक लग गई थी। वही एक युवा जबरदस्त तरीके से घायल हुआ था। उसके बाद मध्य प्रदेश की सरकार ने दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए अवैध निर्माणों पर हमला किया और बुलडोजर चलाएं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।