अल्वा ने प्रचार अभियान के तहत दिल्ली, कर्नाटक व असम के मुख्यमंत्रियों से संपर्क किया

Alva
ANI Photo.
बीते रविवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार के आवास पर हुई 17 विपक्षी दलों की बैठक में अरविंद केजरीवाल शरीक नहीं हुए थे। इस बैठक में अल्वा की उम्मीदवारी के बारे में फैसला किया गया था।

नयी दिल्ली|  उपराष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष की उम्मीदवार मार्गरेट अल्वा ने अपने चुनाव प्रचार अभियान के तहत अब तक दिल्ली, कर्नाटक और असम के मुख्यमंत्रियों से संपर्क किया है। अल्वा ने शनिवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मुलाकात की और उपराष्ट्रपति चुनाव में उनका समर्थन मांगा।

उन्होंने असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा और कर्नाटक के मुख्यमंत्री बसवराज बोम्मई से भी बातचीत की।

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘मार्गरेट अल्वा ने रविवार को 1, पंडित रविशंकर शुक्ला लेन पर अपने चुनाव प्रचार अभियान कार्यालय का प्रभार संभाल लिया।

उन्होंने उपराष्ट्रपति पद के लिए अपने चुनाव प्रचार अभियान के तहत असम, कर्नाटक और दिल्ली के मुख्यमंत्रियों से बातचीत की।’’ रमेश के ट्वीट पर जवाब देते हुए सरमा ने कहा कि उन्होंने अल्वा से बातचीत की लेकिन उन्होंने उनसे (अल्वा से) कहा कि उपराष्ट्रपति चुनाव में उनकी कोई भूमिका नहीं है।

सरमा ने ट्विटर पर रमेश के पोस्ट को ‘टैग’ करते हुए कहा, ‘‘मार्गरेट अल्वा ने आज सुबह मुझसे बातचीत की। मैंने विनम्रता पूर्वक उनसे कहा कि मैं निर्वाचक मंडल का सदस्य नहीं हूं।

साथ ही, भारत के उपराष्ट्रपति के चुनाव में मेरी कोई भूमिका नहीं है।’’ सरमा के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए अल्वा ने कहा कि उन्हें पता है कि निर्वाचक मंडल में कौन शामिल होता है और एक “पुराने दोस्त” के साथ उनकी “अच्छी बातचीत” हुई।

उन्होंने ट्वीट किया, “सरमा एक पुराने दोस्त हैं और हमने साथ मिलकर काम किया है। संसद में 30 साल गुजारने के बाद मुझे पता है कि निर्वाचक मंडल में कौन शामिल होता है।”

आम आदमी पार्टी ने एक बयान में कहा है कि अल्वा और केजरीवाल ने शनिवार को अपनी मुलाकात के दौरान राष्ट्र के मौजूदा राजनीतिक माहौल पर भी चर्चा की।

उल्लेखनीय है कि बीते रविवार को राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार के आवास पर हुई 17 विपक्षी दलों की बैठक में अरविंद केजरीवाल शरीक नहीं हुए थे। इस बैठक में अल्वा की उम्मीदवारी के बारे में फैसला किया गया था।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़