बैठक के बाद पाक पर महबूबा का बड़ा बयान, पड़ोसी मुल्क से बातचीत कश्मीर के लोगों को देती है सुकून

बैठक के बाद पाक पर महबूबा का बड़ा बयान, पड़ोसी मुल्क से बातचीत कश्मीर के लोगों को देती है सुकून

बैठक खत्म होने के बाद पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती मीडिया से बात करने सामने आईं। पीडीपी चीफ का एक बार फिर पाकिस्तान प्रेम सामने आया। उन्होंने फिर से पाकिस्तान से बातचीत का राग अलापते हुए कहा कि सरकार को पाकिस्तान से बात करनी चाहिए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में जम्मू-कश्मीर को लेकर पौने चार घंटे लंबी चली बैठक खत्म हो गई। अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के करीब दो साल के बाद केंद्र सरकार की ओर से राज्य के नेताओं के साथ बातचीत की गई है। बैठक खत्म होने के बाद पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती मीडिया से बात करने सामने आईं। पीडीपी चीफ का एक बार फिर पाकिस्तान प्रेम सामने आया। उन्होंने फिर से पाकिस्तान से बातचीत का राग अलापते हुए कहा कि सरकार को पाकिस्तान से बात करनी चाहिए। आप चीन के साथ बात कर रहे हैं जहां लोगों का कोई इनवाल्वमेंट नहीं है। अगर आपको पाकिस्तान से बात करनी पड़े तो करनी चाहिए इससे कश्मीर के लोगों को सुकून मिलता है। 

इसे भी पढ़ें: मिशन कश्मीर 2.0 पर PM मोदी की 3.45 घंटे लंबी चली बैठक, जानें मीटिंग की प्रमुख बातें

महबूबा मुफ्ती ने कहा कि मैंने बैठक में प्रधानमंत्री से कहा कि अगर आपको धारा 370 को हटाना था तो आपको जम्मू-कश्मीर की विधानसभा को बुलाकर इसे हटाना चाहिए था। इसे गैरकानूनी तरीके से हटाने का कोई हक नहीं था। हम धारा 370 को संवैधानिक और क़ानूनी तरीके से बहाल करना चाहते हैं। 

गौरतलब है कि ये कोई पहला मौका नहीं है कि जब महबूबा मुफ्ती का पाकिस्तान प्रेम सामने आया हो। कश्मीर से दिल्ली रवाना होने से पहले भी महबूबा मुफ्ती ने कहा था कि तालिबान से बात हो सकती है तो पाकिस्तान से क्यों नहीं?  महबूबा मुफ्ती ने कहा कि 370 पर समझौते को लेकर गुपकार एलायंस तैयार नहीं। महबूबा मुफ्ती ने कहा कि आपने सुना होगा हमारी सरकार दोहा जाकर तालिबान से डॉयलाग कर रही है। तो जम्मू कश्मीर में सबके साथ बातचीत करें। पाकिस्तान के साथ भी समाधान के लिए बातचीत करें। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।