सरकार का दावा, 4 सालों में टीवी पर फर्जी विज्ञापनों की 12 हजार से अधिक शिकायतें मिलीं

misleading advertisements
सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि साल 2017 से 2020 के बीच टेलीविजन पर भ्रामक विज्ञापनों के बारे में 12 हजार से अधिक शिकायतें मिलीं।

नयी दिल्ली। सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने शुक्रवार को बताया कि साल 2017 से 2020 के बीच टेलीविजन पर भ्रामक विज्ञापनों के बारे में 12 हजार से अधिक शिकायतें मिलीं। लोकसभा में एक प्रश्न के लिखित उत्तर में सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि भ्रामक विज्ञापनों के खिलाफ शिकायतों से संबंधित पोर्टल में 12,187 शिकायतें मिलीं।

इसे भी पढ़ें: एमएसपी को लेकर कुछ लोग किसानों के मन में संदेह पैदा कर रहे हैं: शेखावत

उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय की ओर से आरंभ किए गए इस पोर्टल पर उपभोक्ता भ्रामक विज्ञापनों के बारे में शिकायतें कर सकते हैं। मंत्री ने कहा कि इन चार वर्षों के दौरान भ्रामक विज्ञापनों के बारे में जो शिकायतें आईं उनमें से 8,963 शिकायतों का निवारण किया गया। इन विज्ञापनों को वापस लिया गया या फिर इनमें संशोधन किया गया।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़