PM मोदी ने की विकास, विश्वास और रोजगार की बात... सामने आई स्थानीय लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रियाएं

PM मोदी ने की विकास, विश्वास और रोजगार की बात... सामने आई स्थानीय लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रियाएं
प्रतिरूप फोटो
Prabhasakshi

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सांबा में कहा कि मैं जम्मू-कश्मीर के नौजवानों से कहना चाहता हूं, साथियों मेरे शब्दों पर भरोसा कीजिए, घाटी के नौजवान आपके माता पिता को, आपके दादा-दादी को, आपके नाना-नानी को जिन मुसीबतों से जिंदगी जीनी पड़ी मेरे नौजवान आपको कभी भी ऐसी मुसीबतों से जिंदगी जीनी नहीं पड़ेगी। मैं ये करके दिखाऊंगा।

जम्मू। आर्टिकल 370 के समाप्त होने के बाद पहली बार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जम्मू-कश्मीर पहुंचे। जहां पर उन्होंने कनेक्टिविटी और बिजली से जुड़े 20,000 करोड़ रुपए के प्रोजेक्ट का लोकार्पण और शिलान्यास किया। जिसको लेकर जम्मू-कश्मीर की जनता काफी ज्यादा उत्साहित दिखाई दी। 

इसे भी पढ़ें: विकास के लिए पंचायतों की भूमिका अहम, PM मोदी बोले- जम्मू-कश्मीर लिखेगा विकास की नई गाथा 

इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि मैं जम्मू-कश्मीर के नौजवानों से कहना चाहता हूं, साथियों मेरे शब्दों पर भरोसा कीजिए, घाटी के नौजवान आपके माता पिता को, आपके दादा-दादी को, आपके नाना-नानी को जिन मुसीबतों से जिंदगी जीनी पड़ी मेरे नौजवान आपको कभी भी ऐसी मुसीबतों से जिंदगी जीनी नहीं पड़ेगी। मैं ये करके दिखाऊंगा। ये मैं आपको विश्वास दिलाने आया हूं।

इसी बीच उन्होंने यह भी कहा कि आज कनेक्टिविटी और बिजली से संबंधित 20,000 करोड़ रुपये की परियोजनाओं का उद्घाटन किया गया है। यहां के स्थानीय युवाओं को रोजगार मिलेगा।

प्रधानमंत्री मोदी के संबोधन के बाद स्थानीय लोगों की मिली-जुली प्रतिक्रियाएं भी सामने आईं। जिसमें उन्होंने केंद्र सरकार द्वारा किए गए कार्यों की सराहना की। हालांकि स्थानीय लोगों ने यह भी कहा कि जम्मू-कश्मीर का सबसे बड़ा मुद्दा बेरोजगारी से जुड़ा हुआ है। आप देखेंगे कि नौकरियां नहीं हैं। 

इसे भी पढ़ें: कड़ी सुरक्षा के बीच जम्मू-कश्मीर पहुंचे पीएम मोदी, ग्राम सभाओं को करेंगे संबोध‍ित 

वहीं एक अन्य व्यक्ति ने कहा कि इससे पहले भी केंद्रीय सरकार ने ऐसे दावे किए थे लेकिन इस बार प्रधानमंत्री मोदी ने जम्मू-कश्मीर के लोगों को आश्वसन दिया है कि आने वाले समय में विकास होगा, युवाओं को रोजगार मिलेगा। ऐसे में यहां की बेरोजगारी दर कम होगी। एक अन्य व्यक्ति ने कहा कि डायलॉगमेंट और विकास की बात हमेशा करते हो। लेकिन इस बार उतना ज्यादा डायलॉगमेंट नहीं दिखा है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।